Google+ Followers

Wednesday, 18 January 2017

272भोली सूरत तेरी देखकर हम लुट गए,
 दिल को तेरे पहचान ही न पाए।
 सूरत को ही तेरी दिल में उतारा,
 दिल में क्या है यह जान ही ना पाए ।
खुद को बस तुझ में ही बसा दिया ,
तुम किस तरफ जा रहे हो जान ही ना पाए ।
ख़्वाब सजाते रहे तुम्हारे ही बस ,
हमारी आंखों के सपने झूठे होंगे सोच ही पाए ।
तुम तो खो गए किसी और के प्यार में ,
आपकी लगन हम पहचान ही ना पाए ।
एक तरफा प्यार होता है बेकार ,
हम आज तलक जान ही ना पाए ।
तभी तो करके वफा ए मोहब्बत ,एक तरफ़ा ,
हम आज हैं पछताए।
25 March 1991.   272
Bholi Surat Teri Dekh Kar Hum Lut Gaye ,
Dil Ko Teri Pehchan Hai Na Paye .
Surat Ko Hi Teri Dil Mein Utaraa,
Dil Mein Kya Hai Yeh Jaan hi na paye.
Khud Ko Bas Tujh Mein Basa diya ,
Tum kis tarf ja rahe ho Jaan Hi na paye .
Khwab sajate Rahe Tumhare he bas ,
Hamari Aankhon Ke Sapne jhoote Honge soch hi Na paye.
Tum To kHo Gaye Kisi Aur Ke Pyar Mein ,
Aapki Lagane Hum Pehchan Hi Na paye.
 Ik Tarfa Pyar Hota Hai bekar ,
Hum Aaj Talak Jaan Hi Na paye.
Tabhi To Kar Ke wafa e Mohabbat ,Ek tarfa,
Hum Aaj Hain pachtaye.

Tuesday, 17 January 2017

59 दीवानगी

कैसी दीवानगी है इन लोगों की जिन्हें जी कर ही चैन नहीं
वह मर कर क्या खाक चैन पाएंगे
खुद को तो बर्बाद करेंगे ही ,
दूसरों को भी गम में साथ अपने रुलायेंगे ।
नहीं किसी को जो तुम्हारी दीवानगी कबूल,
तो क्या जबरन ही अपनी बात मनवाएंगे ।
जो इस तरह बात बनाई गई हो ,मुझे नहीं लगता ,
वह इससे जिंदगी सवार पाएंगे ।
खुद को तो क्या खुशी मिलेगी,
 दूसरे की जिंदगी भी नीरस बनाएंगे।
 वह तड़पता होगा शायद किसी और की याद में ,
तुम जैसे यूं ही उन्हें सताएंगे ।
कैसी दीवानगी है इन लोगों की ,
जिन्हें जी कर ही चैन नहीं ,
वह मर कर क्या खाक पाएंगे।
3Aug 1989 59
Deewangi
Kaisi Deewangi hai in logon ki ,
Jeenhe ji kar hei chain nahi,
 wo Mar kar kya khak chain Payenge.
 Khud Ko tou barbaad karenge He,
 dusro Ko Bhi Gham me Sath Apne rulayenge.
 Nahi Kisi ko jo Tumhari Deewangi Qubool ,
toh kya jabran hi apni baat manwayen ge.
 Jo Is Tarah Baat Banaye gayi ho,
 mujhe nahi lagta ,
Woh is se jindgi sanwaar paeynge.
Khud Ko Kya Khushi milegi ,
Doosre Ki Zindagi Bhi Neeras Banayenge .
vo tadpta Hoga Shayad Kisi Aur Ki Yaad Mein.
Tum Jaise yunhi unhen stayenge .
Kaisi Deewangi hai in logo ki Jeenhe jee
Kar hi chain nahi ,
wo Mar kar kya Khak chain payenge.

Monday, 16 January 2017

271काश तुम भी समझ पाते ही चूड़ियों की जुबान ।
कर देते अपना सब कुछ हिना पर कुर्बान ।
इज़हार जो कर रही हैं ये समझ पाते।
 तुम भी अपने दिल की बात बताते ।
चूड़ियों ने तो कह दिया सब कुछ ,जो दिल में था ।
काश तुम भी कर देते, अपनी मोहब्बत का इज़हार ।
इनकी झंकार तो ना जाती बेकार ।
काश, ये तुम्हारा प्यार पाती ,
समझ जो जाते तुम इनकी जुबान ।
कर देते तुम भी हाल ए दिल अपना बयान।
25 March 1991 271
Kaash tum bhi samajh Pate in choodion ki Zubaan .
kar de Apna Sab Kuch in par Qurban .
Izhaar Jo kar rahi hai yeh ,samaj Pate ,
Tum Bhi ,apne Dil Ki Baat batate.
 Chudiyan nai Tuo Keh Diya sab kuch Jo Dil Me tha.
 Kash Tum bhi kar dete Apni Mohabbat Ka Izhar .
in Ki Jhankar bekar To na Jati .
Kaash ,Yeh Tumhara Pyar Pati .
samajh ho jate Tum inKi Zubaan .
kar dete tum bhi Haal a Dil Apna Beyaan.

Sunday, 15 January 2017

270 चूड़ियां

कलाई जो सजी तेरी, चूड़ियों से,
 मेरे सीने में एक झंकार हुई ।
कोई सुन मेरे कानों से गुजर गया ,
मेरी जिंदगी सुरों का संसार हुई ।
इन्हीं सुरों में खो गया मैं ,
दुनिया मेरी गुलजार हुई।
झनकती हुई चूड़ियों ने कुछ कहा ,
जो इनकी झनक दिल के आर पार हुई ।
इकरार इन्होंने कर दिया मोहब्बत का,
 तभी तो मेरी दुनिया मेरी आबाद हुई।
25march 1991.  270
Kalai  jo sgi Teri, Chudiyan Se,
Mere Seene Mein Jhankar hui.
 Koi Sur mere Kano Se Guzar Gaya,
 Meri Zindagi suron ka Sansar hui.
 inhi suron Mein Kho Gaya Main .
Duniya Meri gulzaar Hue .
Jannakti hui Chudiyan Ne Kuch Kaha.
 Jo inki Jannak Dil Ke aar paar hui.
Ikraar inhonne kr liya Mohabbat Ka.
Tabhi to Duniya Meri aabaad Hui.

Saturday, 14 January 2017

269कभी-कभी बेताबी क्यों बढ़ जाती है इस कदर,
 कि दिल संभाले नहीं संभलता।
 खुद को भी रहती नहीं हमें अपनी खबर,
 दिल में किसी जालिम का प्यार है पलता ।
तड़पने में मुझे रहती नहीं कोई कसर ,
और तड़पाने वाले को इसका पता भी नहीं चलता।
 तन्हाइयों से हमारी रहते वो रहते हैं बेखबर ,
क्या जाने उनका समा कैसे है कटता।
269 24March 1991
Kabhi kabhi betaabi kyun bad jati hai is  kDar .
Ki Dil sambhale nahin sambhalta .
Khud ko bhi rehti  nahi Hame apni Kabar .
Dil Ne Kisi zalim Ka Pyar palta Hai
TadPadhne Mein Mujhe Rehti nahin Koi kAsar.
Or tadPani volon ko iska Pata bhi nahin Chalta .
Tanhaaiyon se Humari Rehte Hain vo beKhabar .
Kya Jaane unka sma kaise hain kat ta

Friday, 13 January 2017

268रोज उठती है तमन्ना ,दवा देते हैं ।
तड़प उठा है दिल ,मना लेते हैं ।
कह ना पाए कभी तुम्हें हाल-ए-दिल ,
तभी तो रोज खुद को सजा देते हैं ।
बात तुमसे कभी हो ना पाई,
यूं ही झूठे ख्वाब मुलाकात के, सजा लेते हैं ।
यूं तो दिल तुम बिन लगता नहीं,
 देकर झूठी दिलासा मना लेते हैं ।
कभी होगी मुलाकात यह सोच कर,
 दिल को अपने बहला लेते हैं ।
कोई सुनना चाहिए हाले दिल मेरा ,
तो यूंही अफसाना बना कर सुना देते हैं।
268 10March 1991
Rose uthti Hai Tamanna, dba dete hain,
Tadap utha Hai Dil, Mana Lete Hain.
Keh Na pai Kabhi Tumhein haal e Dil.
Tabhi To Rose khud co sjaa Dete Hain.
Baat tumse kabhi ho Na paie,
Unhi Jhote khaab Mulakat ke sja Lete Hain .
Yun to Dil Tum Bin Lagta Nahi
De Kar jhooti dilasa ise mna lete Hain .
Kabhi Ho Gi Mulakat Ye Soch kar ,
dil ko apni Bahla Lete Hain .
Koi sunna Chahe Haal e dil mera ,
To yunhi Afsana bana kr, suna dete hain.

Thursday, 12 January 2017

289 आज किस तरह बैठे हैं हम एक साथ
कल चले जाएंगे हम और कहीं ।
पुकार लेना हमें आवाज़ देकर
मिल जाओ जो राह में तुम कभी।
 बिछड़ जाएंगे हम अब ,लेकिन,
 यादें हमारी रह जाएंगे यहीं बाकी।
 मिलना ना हो ,तब भी याद तो कर लेना ।
याद करना ,जब हम थे एक दूजे के साथी ।
दुनिया की यही रीत है ,मिलना और बिछड़ना।
 राह है ,चलते चलते दो राहों में बंट जाती ।
आगे जो जाकर मिल जाए जो ये राहें,
 तो पहचान लेना ,ना कहना कि हम ना थे साथी ।
शायद मिल जाए आगे किसी मोड़ पर,
हम फिर बन जाएं ,शायद  हम राही।
289 19May1991
Aaj Kis Tarah Baithe Hain Hum Ek Sath
 Kal Chale Jayenge Hum aur kahin.
 Pukar Lena Hamen Aawaz Deke ,
Mil Jao Jo Raah Mein Tum Kabhi .
Bichad Jayenge Hum ab, lekin,
Yaadein Hamari reh Jayenge Kahin Baki .
Milna na ho tab b Yaad to kar lena,
 Yaad karna Jab Hum the  Ek Doosre K sathi.
 Duniya Ki Yahi Reet Hai ,Milna or bichadna.
 rah hai, Chalte Chalte do Rahon main BattJati .
Aage jo ja ke Mil Jaye ye Rahen .
To Pehchan Lena, Na Kehna, ki hum na the Saathi.
 Shayad Mil Jaye aage Kisi Mod Par ,
Hum Phir Ban Jaye Humrahi.