Google+ Followers

Thursday, 23 February 2017

003 सता रही है यादें तेरी(Sata rahi hai Yaadein Teri)

यादों में तेरी घुट घुट के मर जाएंगे हम
सपने में तू आती है,
न आई हकीकत बनकर,
तो कुछ कर जाएंगे हम।
यादों में तेरी घुट घुट के मर जाएंगे हम।
तुम्हारी यादों के सहारे जी रहा हूं।
यह सोच कर,
 तुम आओगी तो सफर जिंदगानी का
साथ-साथ तय कर जाएंगे हम।
वह कौन सी घड़ी थी,
जब तुम हमसे जुदा हुए थे।
अब आ जाओ,
नहीं तो खुद ही आ जाएंगे हम।
अगर पहुंच ही गए तुम्हारे पास तो,
सामने आंखों के पाकर तुम्हें,
गले से अपने लगाकर तुम्हें,
तुम में ही समा जायेंगे हम।
फिर भी अगर कि तुमने बेवफाई हमसे तो,
जहर खा कर मर जाएंगे हम।
जान देंगे तेरी बाहों में ,या कदमों में,
और कलंक बदनामी का तेरे सर पर सजा जाएंगे हम।
1987  003
Sata rahi hai Yaadein Teri

Yaadon Mein Teri ghut ghut Ke Mar Jayenge Hum.
Sapne Mein Tu Aati Hai,
Na aai Haqeeqat Ban Kar To Kuch Kar Jayenge Hum.
Yaadon Mein Teri Ghut Ghut Ke Mar Jayenge Hum.
Tumhari Yaadon Ke Sahare Jee raha hoon.
Ye Soch Kar ,
Tum aaogi Tuo Safar Zindagani Ka Sath Sath tai Kar Jayenge Hum.
Wo kaun si gaadi the,
Jab Tum Humse Juda Huye the,
Ab aajao ,
Nahi To khud hi aa Jayenge Hum.
Agar pahoonch hi gae tumhare pass to,
Samne Aankhon Kay Paker Tumhe,
Gale Se Apne Laga kar Tumhe,
Tum Me Sama Jayenge Hum
 Phir Bhi Agar kee tum ne Bewafai Hum Se to,
 Zeher Kha Ke Mar Jayenge Hum.
Jaan denge Teri Bahon Mein,y a Kadmo Mein ,
Aur kalank badnami Ka Tere Sar par Saja Jayenge Hum.

Wednesday, 22 February 2017

002 गम (Gum)

हे भगवान , जाना था ,तेरे पास है सुखों का भंडार।
1.फिर कहां से यह गम आए,
   मेरी जिंदगी में अंधेरे छाए,
   यह काले बादल घिर घिर के आए,
   किस गुनाह के बदले तू तरसाए,
   मैंने सोचा था गम नहीं तेरे द्वार,
   तेरे पास है सुखों का भंडार।
2.फिर मैंने यह गम क्यों पाए,
   सुखों की तमन्ना की थी लेकिन,
   सुखों के फूल खिलने से पहले ही मुरझाए।
3.  खिलेंगे कब यह फूल ,
    कब आएगी इन पर बाहर।
    जब तक मेरे मन में सुख ना पाया,
    तब तक ना आएगा करार।
    तब तक रहेगा फूलों के खिलने का इंतजार
काश, तुम जान पाते गम क्या होता है।
तुम तो हो केवल सुखों के घेरे में गिरफ्तार
तेरे पास तो है केवल सुखों का भंडार।
1987  002
Gum
Hey Bhagwan Jana Tha, Tere Paas Hai sukhon Ka Bhandar
1 Phir Kahan Se Ye Gum aai
Meri Zindagi Mein Andhere Chaye
Ye Kale badal ghir ghir ke Aaye
Kis Gunah ke badle tu Tresaye
Maine Socha Tha Gum Nahi Tere Dwar,
 Tere Paas hai Sukkoon ka Bhandar.
2.Fir maine ye gum kyon Paie.
Sukhon Ki Tamanna ki thi ,Lekin
Sukhon Ke Phool khilne se pehale he Murjhae
3. Khilange Kab Ye Phool ,
Kab Aayegi Hindi Bahar,
Jab tak mere mun ne Sukh Na Paya ,
Tab Tak Na Aayega Karar.
Tab tak Rahega Phoolon Ke khilne Ka Intezar,
 Kaash, Tum Jaan paate gum Kya Hota Hai,
Tum To Ho cable Sukhon ke ghere mein griftar.
Tere Paas to Hai kewal Sukhon Ka Bhandar.

Tuesday, 21 February 2017

57 जिंदगी यह तूने क्या किया(Zindagi Tune Ye Kya Kiya)

जिंदगी तूने यह क्या किया
दिल लेके तूने धोखा दिया
जो तेरा हो गया था जिया
उसे तूने लौटा दिया
जिंदगी तूने यह क्या किया......।
बहारों के आने से बाग खिलना था
कलियाँ आई थी बागों में,
तूने उनको खिलने ना दिया।
जिंदगी तूने यह क्या किया.....।।
आशियां बन रहा था दो फूलों का,
भंवरे ने आस लगाई थी,
मधु तूने उसे इन फूलों का पीने ना दिया।
जिंंदगीं तूने यह क्या किया......।
 खुशियां मिली थी मुझे,
उसे क्यों तूने इस तरह बर्बाद किया,
मंजिल तक पहुंचने ना दिया।
जिंदगी तूने यह क्या किया
57. 20 July 1989
Zindagi Tune Ye Kya Kiya
Zindagi Tu Ne Ye Kya Kiya
Dil Leke tu ne dhoka diya,
Jo Tera Ho Gaya Tha Jiya,
Use Tu Ne Luta Diya.
 Zindagi Tune Ye Kya .....
Baharon Ke Aane Se Baag khilna tha,
Kalian aai  the bagon mein,
Tune unko Bhi khilnein Na Diya.
Zindagi Tu Ne Ye Kya Kiya...
Aashiya Ban raha tha do Phoolon Ka,
Bhanware ne aas Lgayi Thi,
Madhu tu ne use in Phoolon Ka peeinay Na Diya.
Zindagi Tu Ne Ye Kya Kiya..
Khushiyan Mili Thi Mujhe
Use Kyun Tu ne Is Tarah Barbad Kiya
Manzil tak Pahunchne Na diya
Zindagi Tune Ye Kya Kiya...

Monday, 20 February 2017

56 यह ना सोचा था हमने(Yeh na Socha Tha Humne)

कभी अपने भी यूँ पराए होंगे ,ये ना सोचा था हमे।
जिन से वफा की उम्मीद की थी, वहीं बेवफा होंगे ,यह ना सोचा था हमने।
जिन्हें फूल समझा हमने, उनके संग कांटे भी होंगे ,यह ना सोचा था हमने।
मोहब्बत की इस दुनिया में ,गम भी होंगे, ये न सोचा था हमने।
जिन्हें हम जान कहते हैं ,वो संग दिल सनम होंगे, ये न सोचा था हमने।
राहे वफा के रास्ते ,उनके लिए तंग होंगे, यह ना सोचा था हमने।
फूलों के सेहरे की जगह, सर पर कांटों के ताज होंगे, ये न सोचा था हमने।
जिन्हें अरमानों से पाला, वही फूल मुरझाए होंगे, यह ना सोचा था हमने।
जिन्हें दिल ने चाहा, उसकी बेवफाई के चर्चे ,यूं सरे बाजार होंगे,ये न सोचा था हमने।
जिन्हें दिल के पास लाते गए हम ,वही तीर दिल के पार होंगे ,यह न सोचा था हमने।
56 20 july 1989
Yeh na Socha Tha Humne
Kabhi Apne Bhi yun Paraye Honge, ye na Socha Tha Humne.
Jin Se Wafa ki Umeed ki thi, wahi Bewafa Hon Gay,yeh na Socha Tha Humne.
Jeenhain Phool Samjha Humne , unke Sang Kaante bhi Honge ,yeh na Socha Tha Humne.
Mohabbat Ki Is Duniya Mein gum Bhi Honge ,yeh na Socha Tha Humne.
Jeenhe Hum Jaan Kehte Hain , vo Sangdil Sanam Honge, yeh na Socha Tha Humne.
Raahe Wafa Ke Raste unke liye tang honge, yeh na Socha Tha Humne.
Phoolon Ke Sehare ki jagah sar pe kantoonke taaj honge, ye na Socha Tha Humne.
Jeenhe armanon se paala tha wahi fuool Murjhay honge, yeh na Socha Tha Humne.
Jeenhe Dil Ne Chaha uski Bewafai Ke Charche yu Sare Bazar Honge,ye na Socha Tha Humne.
Jeenhe Dil Ke Paas laate Gaye Hum , wahi Teer Dil Ke Paar Honge, yeh na Socha Tha Humne.

Sunday, 19 February 2017

55 अनकहे अल्फाज़(UnKahe Alfaaz.)

दिल में सोचता ही रहता हूं कि उन से मिलूंगा तो ये कहूंगा, वो कहूंगा ,मगर,
उनके सामने तो अल्फाज़ निकलते ही नहीं।
क्या-क्या हवाई महल बनाता हूं,
मगर ,उन्हें देखते ही सब चूर हो जाते हैं।
उन्हीं के लिए तो सपनों के महल बनाता हूं,
फिर क्यों, उन्हें देखते ही वह ओझल हो जाते हैं।
शिकायत मुझे जज्बात से नहीं ,
किससे कहूं दिल ए जुबान,
कैसे बदलूं अल्फाज में यह ज़ज्बात,
कैसे कहूं दे दो मेरे हाथों में अपना हाथ।
इन्हीं सोचों में डूबता जा रहा हूं।
कहीं रह ना जाए यही कि यहीं यह बात।
बदल जाए ना कहीं जिंदगी के हालात।
फिर शायद ऐसा वक्त भी आए,
ना हों ये ज़ज्बात,
ना वक्त हो ,कहने का यह अल्फाज़।
55  16 July 1989
UNKahe Alfaaz.
Dil Mein Sochta Hi Rehta Hoon Ki unse milunga,
 To Yeh Kahun Ga,Woh kahunga, Magar,
Unke Samne Tu Alfaaz Nikalte Hi Nahi.
Kya kya Hawai Mahal banata Hoon ,
Magar ,unhe Dekhte Hi Sab Choor ho Jate Hain.
Unhin ke liye to Sapno ke mahal  bnata hun,
Phir Kyun unahe dekhte hi wo ojal Ho Jaate Hain .
Shikayat Mujhe Jazbaat se nahi,
Phir Kis Se Kahoon,
Kaise badlun Alfaaz Mein ,Yeh Jazbaat.
Kaise Keh Doon dedo Mere Hathon Mai Apna Haath.
Inhin socho me dubta jaa raha hoon,
Kahin Rehna na Jae yahin ki yahin Yeh Baat.
Badal Jane Na Kahin Zindagi ke  Halaat.
Phir Shahyd Aisa Waqt Bhi Aay
Na hon Yeh Jazbaat,
Na Waqt Ho Kehne Ka Ye Alfaaz.

Saturday, 18 February 2017

53 कुछ बाकी रह गया है जिंदगी में(Kuch baaki Reh gya Zindagi Mein)

1.
जिंदगी कट रही थी कितने चैन से,
हंसी खुशी बीत रही थी जिंदगी हमारी,
मगर अब ऐसा दौर आया है,
हंसे बहुत हैं जिंदगी में ,रोना बाकी है।
2.
जिंदगी में जिसे चाहा है ,पाया है,
आशा ही आशा थी जिंदगी में ,
ना जाना कभी ,निराशा क्या होती है।
पाया बहुत है जिंदगी में ,खोना बाकी है।
3.
 तुम्हें खो कर निराश हो गया हूं,
जिंदगी से उदास हो गया हूं,
जीने की तमन्ना खत्म हो गई है।
जी तो बहुत लिए ,अब मरने की तमन्ना बाकी है ।
53. 16July 1989
Kuch baaki  Reh gya Zindagi Mein
1.
Zindagi kat rahi thi kitne chain se,
Hasi Khushi beet rahi thi Zindagi Hamari,
Magar, ab Aisa daur Aaya Hai,
Hasain bahut Hai Zindagi Mein , Rona Baaki Hai.
2.
Zindagi Mein Jo Chaha Hai Paya Hai,
Asha Hi Asha Zindagi Mein thi,
Na Jana Kabhi nirasha kya hoti hai,
Paya bhut Hai Zindagi Mein , kHona Baki Hai.
3.
Tumhe Khokkar nirash ho Gaya hun,
Zindagi Se Udas Ho Gaya hun.
Jeene Ki Tamanna khatam ho gayi hai ,
ji tu bahut liye hai ,ab Marne Ki Tamanna Baki Hai.

Friday, 17 February 2017

54 थक गया हूँ मैं{Thak gaya hoon main}

थक गए हैं पाँव मेरे चलते चलते,
सफर है कि, जिंदगी का खत्म होता ही नहीं।
गोलियों से छलनी कर दिया था उसने जिस्म मेरा,
जख्म ऐसा है कि भरता ही नहीं।
मंजिल तो बहुत पहले से तय थी मेरी,
मगर ,साथ जो चले कोई हमसफ़र मिलता ही नहीं।
जिस से भी पूछा, कहा ,सीधा है रास्ता ,मगर,
कुछ कदम पर मोड़ आ जाते हैं ,
तब रास्ता क्या है ,पता चलता ही नहीं।
सब सामने बैठे हैं हुस्न के तीर चलाने वाले,
बस इश्क का ही जोर चलता नहीं।
जिस गली से भी गुजरता हूं सब देखते हैं मेरी तरफ,
कहते है ,परवाना है ,फिर भी जलता ही नहीं।
54. 16. July 1989
Thak gaya hoon main
Thak gaye hain paanv Mere Chalte Chalte,
Surfer Hai ki Zindagi Ka ki, Khatam Hota Hi Nahi.
Goliyon se chalni kar diya tha usne Jism Mera,
Zakhm Aisa Hai Ki bhrta hi nahi.
Manzil Toh Bahut pehle se hi tai thi Meri ,magar,
Saath Jo chale koi Humsafar Milta Hi Nahi.
Jise Bhi Pucha Kaha Sidha Hai Raasta, Magar,
Kuch Kadam Pe mod aa jaate Hain
tab Rasta Kya Hai ,Pata Chalta Hai Nahi.
Sab Samne Baithe Hain ,Husna ke Teer chalane wale,
Bas Ishq Ka he Jor chalta Nahin.
Jis Gali SE Bhi Guzarta Hoon Sab dekhte hain Meri Taraf,
Kehte hain Parwana hai phir bhi Jalta Hai Nahi.