Google+ Followers

Tuesday, 23 January 2018

437 हाल-ए-दिल हमको सुनाइए(Haal-e-dil Humko sunaiye.)

और सुनाइए, हाल ए दिल हमको बताइए।
यूँ क्यों खड़े हैं आप, जरा बैठ जाइए।
दूर दूर रहकर ना हमको यूं सताइए।
जरा पास आने की ज़हमत फरमाइए।
आंखें क्यों नम हैं ,जरा मुस्कुराइए।
चुप ना बैठिए ,हाल-ए-दिल हमको सुनाइए।

क्या सुनाएं हाले दिल तुमको अपना।
हर कदम पर ,चोट पर चोट खाए जाते हैं।
सोचा था खिलेंगे फूल मोहब्बत की राहों में।
यहां तो कांटे ही कांटे पाए जाते हैं।
सोचता हूं क्यों यह राह चुनी मैंने ,जहां।
बावफा की जगह ,बेवफा ही सनम पाए जाते हैं।
काश ,पहले ही संभल जाता तो
यूँ ना कदम- कदम पर ठोकरें खाता।
शायद कोई मिल ही जाता रास्ता ऐसा।
जहां फूल ही फूल पाए जाते हैं।
यह तो इखतदा है इश्क की।
राह चलते यूं ना घबराइए।
कई मोड़ आएंगे ऐसे ही राहों में।
मत घबराइए बस बढ़ते ही जाइए।
437 26 Nov 1993
Aur sunaiye, Haal e dil Humko Bataiye.
Yun Kyun khade hain aap, Zara baith Jaiye.
Dur Dur Rehkar Na Humko Yu Sataiye.
Zara Paas Aane Ki Zehmat farmaiye.
Aankhen Kyun Naam Hai Zara Muskuraye
Chup na baithiye Haal-e-dil Humko sunaiye.

Kya sunayen Haal e dil Tumko apna.
Har Kadam par chot pe chot Khaye Jaate Hain.
Socha Tha khilenge Phool Mohabbat Ki Raahon Mein.
Yahan toh Kante Hi Kaante Paye Jate Hain.
Sochta Hoon Quen Ye rah Chuni Maine.
Jahan Bawafa ki jagah ,Bewafa Hi Sanam pae Jate Hain.
Kaash Pehle Sambhal Jata.
To youn na Kadam Kadam par thokarin Khatta.
Shayad Koi Mil Hi Jata Rasta Aisa.
Jahan Phool hi Phool Paye Jate Hain.

Yeh To Hai I khtDa Hai Ishq Ki.
Rah Chalte Yun Na Ghabraye.
Kai md Aayenge Aise Hi Rahaon Main.
Mat Gahraai ye bas Badte Hi Jaiye.

Monday, 22 January 2018

436 राह का पत्थर ही सही (Raah ka Pathar hi Sahi)

यूँ ना ठुकराओ मुझे।
राह का पत्थर ही सही।
मुड़ के देखो तो एक बार।
मुझे बसा लो आंखों में ।
शायद मेरे साथ  से।
हो जाए तुम्हारा सफर आसान।
तन्हाई ना महसूस हो।
जिंदगी माशूक हो।
खो जो जाओ राहों में।
या राहें खो दो तुम।
मेरा साथ ही शायद।
तुम्हारा साथ दे ,क्योंकि।
कभी-कभी बाज़ पत्थर भी,
मंजिलों का पता देते हैं।
436 14 Oct 1993
Yu Na thukrao Mujhe.
Raah ka Pathar hi Sahi.
Mud Ke Dekho Toh ek baar.
Mujhe aankhon main bsa lo
Shayad Mere Saath Chalne Se,
Ho Jae Tumhara suffer Assan.
 Tanhai na mehsoos Ho
Zindagi mashook ho.
Kho jo Jao Rahaon Main,
Ya rahain kho doh tum.
Mera Saath Hai Shayad,
Tumhara Sath De, Kyunki,
Kabhi kabhi baaz Patthar bhi,
Manzilon Ka Pata dete hain.

Sunday, 21 January 2018

435 शोहरत का रोग (Shohrat Ka Rog)

तमन्ना थी के जाने हमें यह लोग।
कहां लगा बैठा मैं इस शोहरत का रोग।
 कितना भागा था मैं शौहरत के पीछे,
 शोहरत पाने के लिए।
हाथ ना आती थी, बढ़ती ही जाती थी।
फिर भी मैंने इसे पा लिया।
क्या मालूम था तब, की जिंदगी कैसी होगी।
जब शोहरत साथ होगी।
तारीफ ही तारीफ होगी।
न साथ किसी की मोहब्बत होगी।
प्यार छूट गया शोहरत पाने के बाद।
 सब साथी मेरे छूट गए ।
अब इस बात का गम है ।
कि इस कदर क्यों जाने गए।
435 14 Oct 1993
Tamanna Thi Ke Janain Hame ye log.
Kahan Laga beitha main is Shohrat Ka Rog.
Kitne Bhaga tha main is Shohrat Ke Piche.
Shohrat paane ke liye.
Hath na Aati thi, badhti Hi Jati Thi.
Phir Bhi Maine Isse Pa liya.
Kya Maloom tha tab ,Ki Zindagi Kaisi Hogi.
Jab Shohrat Sath Hogi.

Tarif Hi Tarif Hogi.
Na saath Kisi Ki Mohabbat Hogi.
Pyar chhoot Gya Shohrat paane Ke Baad.
Sab Saathi Mere chhut Gaye.
Ab is Baat Ka Gham Hai,
Ki Is Kadar Kyun Jaane Gaye.

Saturday, 20 January 2018

434 मैंने देखा है जिंदगी को इस नजरिए से भी (Maine Dekha Hai Zindagi Ko is nazariye se bhi)


मैंने देखा है जिंदगी को इस नजरिए से भी।
झड़ते हुए पत्ते भी खिलते हुए फूल लगते हैं।
कभी वो रुठें तो, हमें उनपे प्यार आता है।
कभी वह हंस के बात करते हैं तो शूल चुभते हैं।
जमाने को देख रहा हूं कभी इस कभी उस पहलू से।
मुझे तो अब दुनिया के हर काम फजूल लगते हैं।
पता नहीं यह दुनिया कभी जान पाएगी मुझे।
या मुझे ही इसे पहचानना होगा।
फूलों की चाह में कांटो का भी संग ना होगा।
अकेले ही दुनिया का हर गम काटना होगा।
जुल्म सहना पर खुश रहना।
संग आँसुओं के खेलना होगा।
कट जाएगी जिंदगी यूं ही हंसते खेलते।
सब कुछ सह कर भी, कभी उफ न कहना होगा।
434 7Sept 1993
Maine Dekha Hai Zindagi Ko is nazariye se bhi.
Jhdte Huye Patte bhi khilte Huye Phool Lagte Hain.
Kabhi Vo Roothe toh Hame Unpe Pyar Aata Hai.
Kabhi Woh Has Ke Baat Karte Hain to Shooll chubhte Hain.
Zamane ko dekh raha hoon Kabhi is Kabhi uss pehlu se.
Mujhe toh ab Duniya Ki Har Kaam phizool Lagte Hain.
Pata Nahi yai Duniya Kabhi Jaan paaegii mujhe.
Yeah Mujhe Hi Ise Pehchanana Hoga.
Phoolon Ki chah mein katon Ka bhi Sang Na Hoga.
Akele Hi Duniya Ka Har Gham katna hoga.
Julam sehna par Khush Rehna..
Sang Asooon Ke Khelna Hoga.
Kat Jayegi Zindagi Yuhi Haste khelte.
Sab Kuch Seh Ke bhi Kabhi uff Na Kehna hoga.

Friday, 19 January 2018

433 तुम पे है ऐतबार (Tum pe hai aetbaar)

मौत का भी मुझको यकीन है,
 है उन पे भी ऐतबार।
देखें कौन पहले आता है,
 दोनों का है इंतजार।
ये सिर्फ मैं ही जानता हूं ,
कैसे काटता हूं ,दिन ये रात।
दिन में यह फूल रातों को तारे ,
करते हैं बेकरार।
सागर किनारे चलता हुआ,
 कभी देखता हूं शांत लहरें।
कभी देखता हूं उनमें ,
उठने लगे हैं तूफ़ान।
दे ना जाएं कहीं ,
दोनों ही धोखा मुझे।
कहीं यूं ही ना रहे ,
ये इंतजार बरकरार।
न मौत आए न तुम आओ,
आए तो बस तुम्हारी याद।
रहे पास मेरे ,
तो बस,ये तड़प ,ये इंतजार।
433 2 Sept 1993
Mout ka Bhi Mujhko Yakeen Hai ,
hai unpe bhi Aitbaar.
Dekhain Kaun Pahale aata hai ,
Dono Ka Hai Intezaar.
Yeh sirf main hi Janta Hoon,
 Kaise kat ta hoon Din Ye Raat.
Din Mein Yeh Phool,
 Raaton Ko Tare Karte Hai Bekarar.
Sagar Kinare chalta hua ,
Kabhi dekhta hoon Shant Lehrain.
Kbhi dekhta hoon,
 Unmain Uthne Lage Hain Toofan.
De Na Jayen Kahin Dono hi Dhoka Mujhe,
Kahin yun hi na rhe Ye Intezaarr Barkarar.
Na mout aae na tum aao.
Aae Toh Bas Tumhari Yaad.
Rahe Paas Mere,
Tuo bas ,Yeh Tadap ,Yeh Intezaar. 

Thursday, 18 January 2018

432 क्या कहते हैं इस जलन को (Kya kehte hain Is Jalan ko)

चोट सी लगती है दिल पे ,
जब सरे महफ़िल कोई तेरा नाम लेता है।
कुछ कह भी तो नहीं सकता मैं उसे ,
क्योंकि, वो तेरा पैगाम देता है।
पीकर रह जाता हूं तब मैं घूंट गम का,
यू लेता है, जब कोई नाम मेरे सनम का।
खामोशी में तब तूफान उठने लगते हैं।
भरी बहार में फूल झुलसने लगते हैं।
क्या कहूं मैं इस चीज को जो सिर्फ,
एक तेरे नाम से यूं बेकरार करती है मुझे।
बता दे ,ये तेरी जफा है,
 या फिर तू प्यार करती है मुझे।
क्यों यू सहा नहीं जाता मुझसे,
 किसी का यूं तेरा नाम लेना।
क्या कहते हैं इस जलन को ,
यह जरा तू ही बता देना।
जो ज़ख्म मैं सहता रहता हूं अक्सर,
जरा उन पर कुछ मरहम तो लगा देना।
क्या कहते हैं इस जलन को
ये जरा तू ही बता देना।
432 1 Sept 1993
 Chot Si Lagti Hai Dil Pe Jab,
Sare Mehfil Koi Tera naam leta hai.
Kuch Keh Bhi To Nahi Sakta main usse,
 Kyunki,Woh Tera Paigam deta hai.
Pee kar raha Jata Hoon Tab mein ghoont Ghum ka.
You leta hai Jab Koi Na Mere Sanam ka.
Khamoshi Me tab Toofan uthne Lagte Hain.
Bheri Raahon Mein fuir Fool Jhulsne Lagte Hain.
Kya Kahoon Main is cheez ko, jo sirf ek Tere Naam Se Yun Bekarar Karti Hai Mujhe.
Bata de, Ye Teri Jafa Hai ya phir,
Tu Pyar Karti Hai Mujhe.
Kyon youn Saha Nahi Jata Mujhse,
Kisi Ka Yun Tera Naam Lena.
Kya kehte hai is Jalan ko,
Yeah Zara Tu Hi Bata dena.
Jo zakham mein Sehta Hoon Akshar.
Zara un par kuch Mar- Hum Toh laga dena.
Kya kehte hain Is Jalan ko,
Ye Jra Tu Hi Bata dena.

Wednesday, 17 January 2018

431 कैसे कटी रातें (kaise Kati Raatein)

हाय काटे हैं कैसे दिन मैंने मत पूछो।
कटी मेरी कैसे हैं रातें ,ये पूछो।
तूफान उठते रहे, नैया डोलती रही।
मैं चुप रहा, खामोशी बोलती रही।
सहारा ना मिला मुझे उस तूफान में,
कितना तन्हा था उस रात मैं।
हर उठती लहर में ,तुम मुझे नजर आने लगी।
तेरी वो खामोश तस्वीर मुझे और भी सताने लगी।
धड़कन बढ़ने लगी मेरे सीने में,
कितनी हसरत थी तब उसे जीने में।
ऐसा लगता था जख्म लथपथ है खून से।
समझ ना आया कैसे उतरा मैं उस जुनून से।
तभी फिर सुबह हो गई सूरज आया।
साथ में तुम्हारे आने का पैगाम लाया।
पर आज भी मैं इंतजार कर रहा हूं।
उस रात की तरह, जी जी कर मर रहा हूं।
431 30 Aug 1993
Hi Katay Hain Kaise din maine ye mat Pucho.
Kati Meri kaise hai Raatein ye Pucho
Tufaan Uthte Rahe ,Na yya dolti Rahi.
Mein Chup Raha ,Khamoshi bolti Rahi.
Sahara Na Mila Mujhe us Toofan Mein.
Kitna Tanha tha Usi Raat Main.
Har uthti Lehar Mein, Tum Mujhe Nazar Aane Lagi.
Teri Woh Khamosh Tasveer Mujhe Aur Bhi Satane Lagi.
Dhadkan Badne Lagi Mere Seene Mein.
Kitni Hasrat Thi tab is Jeene mein.
Aisa lagta tha Zakhm Lathpath Hai Khoon Se.
Samajh Na Aaya Kaise uttara main us Junoon se.
Tabhi Phir Subah Ho Gayi Suraj Aaya.
Saath mein tumhare Aane Ka Paigam Laya.
Par Aaj Bhi Main Intezar kar raha hoon.
Us Raat Ki Tarha ,Ji ji kar mar raha hoon.