Google+ Followers

Wednesday, 26 July 2017

168 दिल धड़क रहा है मेरा(Dil Dhadak Raha Hai Mera)

सुन कर तेरी आवाज दूर से,
दिल यहाँ धड़क रहा है मेरा।
पास तेरे में पहुंच जाऊं किसी तरह,
दिल चाह रहा है मेरा।
बातें तेरी मुझे यहाँ मदहोश कर रही है,
जी चाह रहा है बाहों का आसरा पा लूं मैं तेरा।
प्यार का सबक तू सबको दे रही है,
मुझे तड़पा रही है तू बता क्या कसूर है मेरा।
कभी पास बुलाकर तो देखा होता,
प्यार की बात तू करती है,
चीर के दिल दिखा देता मैं तुझे मेरा।
168 4 Mar 1990
Sun kar Teri Awaz Dur se,
Dil Yahan Dhadak Raha Hai Mera.
Paas Tere Main pahuch jaon Kisi Tarah,
Dil chah Raha Hai Mera.
Batain Teri Mujhe Yahan Madhosh kar rahi hai,
Ji Chaha raha hai bahon ka Aasara Paa Lun Main Tera.
Pyaar Ka Sabak tu sab ko de rahi hai,
Mujhe Tadpa Rahi Hai Tu Bata Kya Kasoor Hai Mera.
Kabhi Paas Bula Kar Tuo Dekha Hota,
Pyar Ki Baat tu karti hai,
Cheer Ke Dil dekha Deta Main Tujhe Mera.

Tuesday, 25 July 2017

169 समझ ना आए तेरी बात मुझे(samajh Na Aaye Teri Baat Mujhe)

क्या करूं जो समझ ना आए तेरी बात मुझे,
तू यह समझे मैंने न गौर किया,
और यही बात मन ही मन रुलाए तुझे।
बात इतनी सीधी नहीं कि मैं समझ जाऊं,
तू भी तो पहेलियां बुझाती है,
तभी तो तेरी बात में जान नहीं पाऊं।
दुख देती होगी मेरी नासमझी तुझे,
बात साफ कहती तो समझने की कोशिश करता,
शायद समझ में आ जाती मुझे।
169 4 Mar 1990
Kya Karoon Jo samajh Na Aaye Teri Baat Mujhe,
Tu Yeh samjhe Maine Na gaur Kiya,
Aur Yahi baat man hi man Rulaye Tujhe.
Baat Itni seedhi nahi ki main samajh jaon,
Tu Bhi Toh paheliyan bujhati hai,
Tabhi To Teri Baat Main Jaan nahi Paun.
Dukh DeTi hogi meri na- samjhi Tujhe,
Baat saaf saaf Kehti toh samajhne ki koshish Karta,
 Shayad Samajh Mein Aa Jati Mujhe.

Monday, 24 July 2017

284 तूने मेरा दर्द ना जाना (Tune Mera Dard Na Jaana)

दो दीवाने जब मिल जाते हैं तो कहते हैं,
इस दुनिया ने दिल का दर्द ना जाना।
एक हम हैं, कि जिसका दर्द वही नहीं जानता,
जिससे चाहा हमने प्यार निभाना।
जख्म उनको मिलते हैं जमाने वालों से,
मेरे जख्म को मेरे यार ने ना पहचाना।
जमाने के सताये जाने को शायद सह भी लेते,
जब अपना ना जाने तड़प,
तो जी चाहे मर जाना ।
लुटा दूंगा अपना सब कुछ तेरे नाम पर,
जो तू चाहे मुझे आजमाना।
मगर क्या करुं,
तूने मेरा दर्द ना जाना।
मेरा जख्म ना पहचाना।
मेरा प्यार ना जाना।
284 4May 1991
Do Deewane Jab Mil Jate Hain toh kehte hain,
Is Duniya Mein Dil Ka Dard Na Jaana.
Ek Hum Hai Ki Jiska Dard  wahi Nahi Janta,
Jissee Chaha Humne Pyar Nibhaana.
Zakhm Unko Milte Hain Zamane Walo se,
Mere Zakhm ko Mere Yaar ne na pehchana.
zmaane ke Sataye Jane ko Shayad Seha Bhi lete.
Jab Apna Na Jaane Tadap, Tu Zee Chahe Mar Jana.
Luta dunl Apna sab kuch Tere Naam Pe.
Jo Tu Chahe mujhe aaj-Mana
Magar Kya Karu,
Tune Mera Dard Na Jaana,
Mera Zakhm na pehchana.
Mera Pyar Na Jana.

Sunday, 23 July 2017

283ख्वाब ख्वाब ही रहे (Khwab Khwab Hi Rahe)

आप कहते हैं हम बर्बाद हो गए।
हमसे पूछो, हम तो आबाद कभी हुए ही नहीं।
आप कहते हैं, दिल हमारा टूट गया।
हमसे पूछो ,जो कभी जुड़ा ही नहीं।
आपके ख्वाब बनके ही बिखरे होंगे।
हमारे ख्वाब ख्वाब ही रहे, कभी बने ही नहीं।
तुम्हें तो नाज़ होगा कि दिल लगाया ,कभी तो ,तुमने किसी से।
हम तो अपने ख्वाब को , अपना बना सके ही नहीं।
किसी से तो तुमने कभी प्यार की बात की होगी।
हमारे सामने तो ऐसा मुकाम आया ही नहीं।
नफ़रत मिली तूम्हें यह भी तो एक नेमत है,
हमसे पूछो, जिन्होंने कभी कुछ पाया ही नहीं।
283 4 May 1991
Aap Kehte Hai Hum Barbad Ho Gaye.
Humse Pucho, Hum toh aabaad Kabhi Huye hi nahi.
Aap kehte hai, Dil Hamara Toot Gaya.
Humse Poocho Jo kabhi juda hi nahi.
 Aap Ke Khwab Ban Ke Hi  Bikhare Honge.
Hamare Khwab Khwab Hi Rahe, Kabhi Bane Hi Nahin.
Tumhain Toh Naaz Hoga ,Ki Dil Lagaya Kabhi Toh, Tumne Kisi Se.
Hum Toh aapne Khwaab Ko apna bana sake hi nahi.
Kisi Se Toh tumne kabhi Pyar Ki Baat ki Hogi.
Hamare Samne To Aisa Mukam Aaya hi nahi.
Nafrat Mili Tumhe Ye Bhi to Ek naymat hai.
Humse Pucho jinhone Kabhi Kuch Paya Hi Nahi.

Saturday, 22 July 2017

282 अपने भी दे जाते हैं धोखा (Apne Bhi de Jaate Hain Dhoka.)

अपने भी दे जाते हैं कभी कभी धोखा।
चाहे कितना ही सोचो ,कि ऐसा नहीं होगा।
तोड़ जाते हैं वही वफा से भरा दिल,
जिनकी वफा़ पर हमें है नाज़ होता।
दुनिया तो चल ही रही है फिर भी,
चाहे ,कभी वह नहीं हुआ, जो हो सोचा।
यह सिर्फ सोचने की ही बात है कि,
काश जो हमने सोचा था ,वही होता।
शायद, वो काम पूरे भी हो जाते।
जो ना देते राह ए वफा़ में हमें वो धोखा।
अपने भी दे जाते हैं कभी कभी धोखा,
चाहे कितना भी सोचो, कि ऐसा नहीं होगा।
कहां से कहां पहुंच जाते हम और वो,
जो वो कायम रखते अपना भरोसा।
282 29 April 1991
Apne Bhi de Jaate Hain Kabhi Kabhi Dhoka.
Chahe kitne hi Socho , ki aisa nahi hoga.
Tod Jate Hain Wahi Wafa Se Bhara Dil,
Jinki Wafa par Hame  Hai Naaz Hota.
Duniya toh chal rahi hai phir bhi,
Chahe Kabhi Veh nahi Hua, Jo Ho Socha.
Yeh hai sirf sochne ki hi baat hai ki,
Kaash ,Jo Humne Socha Tha wahi Hota.
Shayad, Wo Kaam Pure bhi ho jate,
Jo Na dete Rah e Wafa Main  Hamain Dhukha.
Apni bhi De Jaate Hain Kabhi Kabhi Dhoka.
Chahe Kitne Bhi Socho ki aisa nahi hoga.
Kahan se kahan pahunch jate Hum Aur Vo,
Jo woh Kayam rakhte Apna Bharosa.

Friday, 21 July 2017

281 अकेले हैं हम (Akele Hain Hum)

मंजिल जो तय होती ,बढ़ा लेते अपने कदम।
यूं ही कैसे ,किन राहों पर चले हैं हम।
कोई साथी नहीं मेरा , कोई नहीं हमदम।
तनहाइयां हैं साथी मेरी, और ये गम।
जवानी लाई है तनहाइयां , ना लाई कोई रंग।
मंजिल तो तब तय होती, जब बनाता कोई सनम।
कदम मिलाकर चलता, बनता हमकदम।
मिलता जो कोई साथी, तो बढ़ा लेते अपने कदम।
281 28 April 1991
Manzil jo Taye Hoti, Bada late Apne Kadam.
Yunhi Kaise? Kin Rahon Par Chale Hum.
Koi Sathi Nahi Mera Koi Nahi Humdum.
Tanhaiya Hain Saathi Meri, Aur Yeh Gham.
Jawani Laai Hai tanhaiyan, Naa lai Koi Rang.
Manzil toh Tab Taye hoti ,Jab Banta koi Sanam.
Kadam Mila Kar Chalta,  Banta humkadam.
Milta Jo Koi Saathi, To badh Lete apne Kadam 

Thursday, 20 July 2017

280 तुम्हारे आने से Tumhaare Aane Se)

काश ,उसके दिल में भी उठती तड़प मेरे लिए,
तो हो जाती जिंदगानी  हसीन कितनी।
कर देते वो जो हाल दिल का बयान इक बार,
तो बन जाती जवानी हसीन कितनी।
तन्हाई ना सताती हमको तो उजाला करते घर में,
तो हो जाती दिवाली, हसीन कितनी।
बलखाती कमर ,लटकती चोटी लिए ,आती जो हवो कभी,
तो लगती वो मस्तानी हसीन कितनी।
यूं ही कह देती भोलेपन हमें वो हाल-ए-दिल,
उसकी लगती ये नादानी हसीन कितनी।
काश, उसके दिल में भी उठती तड़प मेरे लिए,
तो हो जाती जिंदगानी हसीन कितनी।
280 28 April 1991
Kaash Uske Dil Mein Bhi uthti  Tadap Mere Liye,
Tu Ho Jati Zindagani Haseen Kitni.
Kar de te  wo Jo Haal Dil Ka Bayan ek baar,
Tu Ban Jati Jawani Haseen Kitni.
Tanhai na Satati Humko Tu Ujala karte ghar me,
To Ho Jaati Diwali Haseen Kitni.
Bulkhati Kamar, latakti Choti Liye Aati Jo vo kabhi,
Tu Lagti vo Mastani Haseen Kitni.
Yuhi Keh Deti Bholepan Me Hame wo Haal e dil,
Uski lagti Ye nadani haseen Kitni.
Kaash, Uske Dil Mein Bhi uthti Tadap Mere Liye,
Toh ho jati Zindagani
Haseen Kitni.