Google+ Followers

Wednesday, 25 April 2018

537 थकान Thkaan)

थक गया हूं जानम, तुझे पुकार के।
 कब आएगी तू मेरे द्वार पे।
 आंखें तरस गई ,  बिन तेरे दीदार के।
थक गया हूं जानम तुझे पुकार के।

आ पास मेरे, दिल को कुछ सुकून तो मिले।
भुला दे, आज तक जितने भी थे शिकवे गिले।
बैठ गया हूं मैं अब,थक हार के।
थक गया हूं जानम तुझे पुकार के।

कितना था सकून जब तू मेरे साथ थी।
खिला हुआ था में ,जिंदगी बहार थी।
मुरझा गया हूं जानम,  बिन तेरे प्यार के।
थक गया हूं जानम तुझे पुकार के।
17.52pm 25 April 2018
Thak Gaya janam Tujhe Pukar ke.
 Kab Aayegi Tu, mere Dwar pe.
Aankhen Taras Gayi Bin Tere Deedar ke.
Thak  Gaya Hun Janam,Tujhe Pukar Ke.

Aa Paas Mere Dil Ko Kuch Sukoon To Mile.
Bhula de, Aaj Tak jitne bhi The Shikwe Gile.
Baith gaya hoon main ab Thak Haar ke.
Thak  Gaya Hun Janam,Tujhe Pukar Ke.

Kitne Tha Sukoon Jab Tu Mere Saath thi.
Khila Hua Tha Main, Zindagi Bahar thi.
Murjha gaye ho jaanam, Bin Tere Pyaar Ke.
Thak  Gaya Hun Janam,Tujhe Pukar Ke.

Tuesday, 24 April 2018

536 नज़रिया (Nazaria)

तुम देखते हो जिंदगी को  जिस नज़र से मेरी नजर वो नहीं।
तुम्हारी नजरों में कीमत बस पैसे की है मेरी नजर पैसे पर नहीं।
कला को देखता हूं मैं जिस नजर से ,तेरे पास वो नजर नहीं।
अंदाज़ मेरा और तेरा है  जुदा जुदा ए मेरे हमसफ़र।
पर तेरी मेरी मंजिल एक है जानेमन ,दो नहीं।
चलना तो हमें  है एक ही रास्ते पर जहां तक भी चलें।
अंदाज़ चाहे देखने के अलग अलग हो हमारे ए दिलनशीं ।
तुम अपनी नजर से देखो मैं अपनी नजर से देखता हूं।
 क्योंकी मंज़िल हमारी एक ही है, दो अलग अलग नहीं।
 24 April 2018
Tum Dekhte Ho Zindagi ko jis Nazar Se, Meri Nazar Woh nahi.
Tumhari nazron mein Keemat bas Paise Ki Hai ,Meri Nazar Paise Par nahi.
Kala ko dekhta hoon Main Jis Nazar Se, Tere Paas Woh Nazar Nahi.
Andaaz Mera aur Tera Hai Juda Juda Aye Mere Humsafar
Teri Meri Manzil ek hai Janeman, Do Nahi .
Chalna to Hame Hai Ek Hi Raste Par, jahan tak bhi Chalein.
Andaaz chahe dekhne ke alag alag Ho Hamare e' dilnashin.
 Tum apni Nazar Se Dekho, Mai apni Nazar Se dekhta hoon.
Kyon Ki Manzil hamari ek hi hai ,do alag alag nahi.

Monday, 23 April 2018

535 जिंदगी के रास्ते (Zindgi Ke Raste)

जिंदगी चली जा रही है अपने ही रास्ते।
 कितना भी रोको, रोक नहीं पाता हूं।
दिशा क्या है इसकी, कुछ समझ आता नहीं।
सोचता ही जाता हूं ,जितना जाता हूं।
दोस्त बना नहीं पाता हूं इसको।
 जितना समझता हूं ,और उलझता जाता हूं।
तस्वीर तेरी साफ नहीं होती।
रंग तेरे समझ नहीं आते।
सफर तो चल रहा है।
 रास्ते समझ नहीं आते।
कट रही है बस यह तो एक तरह।
 जितना समझता हूं, उलझता ही जाता हूँ।
535 24April 2018

Zindagi Chali Ja Rahi Hai Apne Hi Raste.
Kitna Bhi roko rok nahi pata Hoon.
Disha Kya Hai Iski, kuch samajh Aata Nahi.
Sochta Hi Jata Hoon, Jitna Jata Hoon.
Dost Bana nahi pata Hoon Isko.
Jitna samajhta Hoon, aur Ulajhta Jata Hoon.
Tasveer Teri saaf nahi hoti.
Rang tere samajh Nahi Aate.
Safar to chal raha hai.
Raste samajh Nahi Aate.
Kat rahi hai bas yeh toh Ik Tarha.
Jitna samajhta Hoon Ulajhta hi Jata Hoon.

Sunday, 22 April 2018

534 निगाहें नम ना करना(Nigahen Nam Na Karna.)

दूर हो जाऊं जाऊं मैं  तुमसे तो गम ना करना।
जो भी हो अपनी निगाहें नम ना करना।
पास रहकर बहुत देखा हमने।
दूर हमसे होने का गम ना करना।
बहुत कुछ करना है अभी तुमने जिंदगी में।
हमारे लिए अपनी आंखें नम न करना।
आंधी आए तूफान आए आगे ही देखना।
मुड़ कर पीछे देखने का की कोशिश ना करना।
आगे बढ़ो गे तो कुछ तो मिलेगा ही।
 पीछे क्या रखा है जो है संभालना।
मिलना बिछड़ना रीत है जिंदगी की।
 मिलने बिछड़ने का तो गम ना करना।
दूर हो जाऊं मैं तुमसे तो गम ना करना।
जो भी हो अपनी निगाहें नम ना करना।
534 22April 2018

Dur Ho Jaun Main Tumse Tuo Gham Na Karna.
Jo bhi ho apni Nigahen Nam Na Karna.
Paas Reh Kar bahut Dekha Humne.
 Dur Humse hone Ka Gham Na Karna.

Bahut kuch karna hai abhi Tumne Zindagi Mein.
Hamare liye apni Aankhein Nam Na Karna.
 Aandhi Aaye ,Toofan Aaye ,aage Hi dekhna.
Mud Kar Piche dekhne Ki Koshish Na Karna.

Aage bado Gye To Kuch Toh Milega hi.
Piche Kya Rakha Hai Jo Hai sambhalna.
Milna bichadna Reet Hai Zindagi Ki.
 Milne Bichdne ka tu Gham Na Karna.

Dur Ho Jaun Main Tumse Tu Gham Na Karna.
 Jo bhi ho apni Nigahen Nam Na Karna.

Saturday, 21 April 2018

533 शाम ए इंतजार (Sham e Intzaar)

हर शाम तेरे इंतजार में बैठते हैं।
कैसे बहलाएं खुद को हम ,जरा बता दो ।
तन्हा काट रहे हैं सफर जिंदगी का ।
कैसे करें इसे पूरा हम, जरा समझा दो ।
 पल-पल गुजरता है चुभता हुआ ।
इस चुभन को  जरा मिटा दो ।
शाम ढलती हुई ,चुभती है।
ये जख्म कैसे भरे, जरा मरहम लगा दो।
आ जाओ अब तो सुकून दे दो मुझे।
तुझे कैसे बुलाएं हम, जरा बता दो।
 21April 2018
Har Sham Tere Intzaar main Baithte Hain.
Kaise Behlayen Khud Ko Hum Zara bata do.
Tanha kat-te Rahe Hain  Safar Zindagi Ka.
Kaise kare ise pura Hum, Zara Samjha do.
Pal Pal Guzarta Hai Chubhta Hua.
Is Chubhan ko zra mita do.
Shaam dhalti Hui Chubhti hai.
yeh Zakham Kaise Bhare ,zara Marham Lga Do.
Aa Jao Ab To Sakoon De Do Mujhe.
 Tujhe Kaise Bulaaen Hum,Zara Bta Do.

Friday, 20 April 2018

532 हवा, बादल और धरती (Hawa,Badal or Dharti)

हवाएं सरसरा कर ना जाने क्या कहना चाहती है।
पेड़ों के पत्ते झूलते हैं दोनों तरफ।
हवाएं न जाने किस और बहना चाहती हैं।

बादल ने भी छेड़ा  है सुर अपनी गड़गड़ाहट का।
बरसने की आहट है ये शायद उसकी।
बिजली ने भी रूप दिखाया चमकाहट का।

धरती सब देख रही है हवा बादल का खेल।
कह रही है करो तुम अपना काम।
तभी होगा मेरा और तुम्हारा बूंदों से मेल।

सभी लगे हैं अपने कर्म में।
देखो सब और हरियाली हुई।
तुम भी कुछ सीखो कुदरत से।
कर्म से कभी ना बदहाली हुई।
मेहनत ही है हर सफलता की कुंजी।
करो मेहनत तो ही होगी सफल जिंदगी।
532 20April 2018
Hawayein sar sara kar na Jaane kya kehna chahti hai.
Pedon ke Patte Jhulte Hain Dono Taraf.
Hawain Na Jane Kis aur Behnna chahti hai.

Badal ne Bhi Cheda Sur apni gadgadahat ka.
Barsne ki Aahat hai yeh Shayad uski.
Bijali ne bhi Roop dikhaya chamkahat Ka.

Dharti Sab dekh rahi hai ,Hawa Badal ka khel.
Keh Rahi Hai Karo Tum apna kaam.
Tabhi Hoga mera tumhara Bundon se mel.

Sabhi Lage Hain Apne Karam Main.
Dekho Sab aur Hariyali Hui.
Tum bhi kuch seekho Kudrat se.
Karam Se Kabhi Na Badhali Hui.
Mehnat hi Hai Har safalta Ki Kunji.
Kro mehnat Tu Hi Hogi Safal Zindagi.

Thursday, 19 April 2018

531 अब और मैं सह नहीं सकता (ab aur main seh nahi sakta)

क्या करूं तुम्हारी इन बेदर्द निगाहों को,
चलाती हो तीर इस तरह, कि सीना चीर देती हो।

हर बार सोचता हूं कि ,अब देंगी प्यार मुझको।
जिस तरह लोगों को, नजरें हसीन देती हो।

प्यार कर मुझको ,मैं भी तो तेरा चाहने वाला हूं।
क्यों मुझे अल्फाज तुम  गमगीन देती हो।

प्यार से तुझको मैंने कई बार है पुकारा।
पर हर बार मेरी उल्फत के शब्द तुम छीन लेती हो।

कुछ करम कर और अपना साथ दे दे मुझको।
क्यों मेरे सपने हसीन, तुम छीन लेती हो।

बहुत हो चुका अब और मैं सह नहीं सकता।
कह दे मुझे तुम मेरे लिए दिल चीर सकती हो।
2.59 pm 19 April 2018

Kya Karoon Tumhari is Bedard Nigahon ka.
Chalati Ho Teer Is Tarah Ki Seena Cheer deti ho.

Har Baar Sochta Hoon Ki Ab den gi Pyar Mujhko.
Jis Tarah logo ko Nazre Haseen Deti Ho.

Pyar Kar Mujhko, main bhi toh tera chahne Wala Hoon.
Kyun Mujhe Alfaaz Tum Gumgeen deti Ho.

Pyar Se Tujhko maine,Kai Baar Hai Pukara.
Par har Baar Meri Ulfat ke shabd Tum, Cheen Leti Ho.

Kuch karam kar, aur Apna Saath De De Mujhko.
Kyun mere sapne Haseen, Tum Cheen Leti Ho.

Bahut ho chuka, ab aur main seh nahi sakta.
Keh do mujhe tum mere liye Dil Cheer Sakti Ho.