Google+ Followers

Saturday, 31 December 2016

गम ही गम (Gum Hi gum)

जमाने का गम तो सह लेते हम
क्या करें जो इल्जाम तुमने दिया।
 सोचा नहीं था बेरुखी यूँ हमसे करोगे तुम ।
किस तरह मोहब्बत का पैगाम तुमने दिया।
 जिंदगी मेरी बन गई इक दर्द-ए-ग़म ।
चलो हम पर यह एहसान तो तुमने किया ,
चलो ,जीने का सहारा तो दिया।
 चाहे दर्द ए गम ही दिया ।
जी लेंगे हम सफर बनाकर उन्हें जो दिए हैं तुमने गम।
 दिल ने इसी बात पर शुक्रिया अदा किया।
 कभी तो बने थे राह में तुम हम कदम ।
मोहब्बत का कर्ज हम ने अदा किया।
 क्या हुआ जो ठुकरा दिया तुमने सनम।
 जिंदगी की किताब में एक पन्ना तुम्हारा भी हो गया।
 चाहे उस पन्ने में भरे तुमने गम ही गम।
6Aug 1989   64

Gum Hi gum
 Zamane ka kam to seh lete Hum.
 Kya Kare Jo iljam Tumne Diya .
Socha Nahi Tha berukhi yun Humse Karoge Tum.
 Is Tarah Mohabbat Ka paigham Tumne Diya .
Zindagi Meri ban gayi hai dard e Gam.
 chalo Hum pe yeh ehsaan  to Tumne Kiya.
Chalo, Jeene Ka Sahara Tu Tumne Diya.
Chahe dard e gum hi diya.
Jee  Lenge Humsafar Banakar unhen Jo diye Hai Tumne gum.
Dil ne isi baat pe shukriya ada kiya.
Kabhi tou bne the rah main tum hum kadam.
  Mohabbat Ka karz Humne ada Kiya.
 kya hua jo thukra diya tumne Sanam .
Zindagi Ki Kitab Mein ek Panna Tumhara bhi ho gaya .
Chahe us panne me bhare Tumne Gum hi gum

Friday, 30 December 2016

हंसते जख्म(Hanste Zakhm)

गम उन्होंने दिए हैं इतने
 कि अब तो उनकी हंसी भी तीर चलाती दिखाई देती है।
 उनकी हर अदा जफा का पैगाम लाती दिखाई देती है।
 खुश हम कैसे हो गम है इतने,
 की फुर्सत नहीं खुश रहने की ,अब दुनिया में उदासी ही दिखाई देती है।
 हर शख्स का चेहरा मुरझाया और चेहरे पर उदासी दिखाई देती है।
 गम वह अब भी देते हैं इतने,
कि अब भी गैरों से बात करते हैं तो ,हमारी ही बात करते दिखाई देते हैं।
 दूसरे चाहे खुश हमें करना भी चाहें,मगर वह बीच में तीर चलाते दिखाई देती हैं ।

13 Oct 1989 105
Hanste Zakhm
Gum unhonne Diye Hain itne,
 Ki Ab To UN ki hassy Bhi teer  chalati Dikhai Deti Hai.
 Unki Har ada Jaffa Ka Paigam laty Dikhai Deti Hai .
Khush Hum Kaise Hoon Gam Hai itne.,
 Ki Fursat nahi Khush Rehne Ke .,
Ab Duniya Mein udaasi Hi Dikhai Deti Hai .
Har shakhs Ka Chehra Murjhaya aur Chehre Pe Udasi Dikhai Deti Hai .
Gham vo ab Bhi Dete Hain itne .
ki ab bhi gairon se baat karte hein to ,
Hamari hi Baat Karte Dikhai deti Hain.
 Doosre Chahe khush Hame karna bhi chahiyen Magar wo Beech Mein teer ChalAate Dikhai Dete Hain.

Thursday, 29 December 2016

107 आए और जखम देख कर चल दिए (Aae or jkam Dekh Kar Chal Diye}

उनके आने से हमारा चेहरा खिल उठा।
 उनके उखड़े चेहरे ने हमारी खुशी दबा दी ।
हम उनका इंतजार कर रहे थे,
 वह आए तो, मगर ,आने में बेमन था।
चलो, इंतजार का सिला तो मिला।
 वह आए पर उनके आने ने हमें सजा दी ।
वह अपना सब कुछ कहकर चल दिए।
 हम सुनते रहे, और उन्होंने नजर हटा ली।
 बाहर निकले वह घर से ,हम भी पीछे चल दिए ।
वह चले और हमने अलविदा की ।
वापस आए और सोचा उनकी बेरुखी पर,
 जान गए यह हसीनो की इक अदा थी।
10Oct 1989 107
Aae or jkam Dekh Kar Chal Diye
Unke Aane Se Hamara Chehra khil utha.
UnKe ukde Chehre nein Hamari Khushi  dBa di .
hmm unKa Intezar kar rahi thei.
 wo aaye to, Magar Ani may beman tha .
Intezar Ka Sila to Mila.
 Vo aae per unKe Aane Ne Hame sza di.
Vo Apna sab kuch Keh ker Chal Diye.
 Hum sunte Rahe, aur uNohoni nazar hta li.
 Bahar Nikle Woh Ghar Se, Hum Bhi Piche Chal Diye .
Vo Chale Aur Humne Alvida Ki.
 Wapis aae or Socha ,unKi berukhi per,
Jaan gae ye Hasin on  ki Ek ada Thi.

Wednesday, 28 December 2016

आस {(Aas)}

सहते हैं हम फिर भी कुछ कहते नहीं
दिल हो चुका है उनका फिर भी वो इसमें रहते नहीं ।
जख्मों से भरा है यह दिल ,
अगर वह मिल जाते ,तो दाग इस पर रहते नहीं ।
जख्मों के साथ दाग उन्होंने दिए ,
जो चुप रहते हैं कभी कुछ कहते नहीं ।
देखते हैं वो, गम सह रहे हैं हम ,
वो फिर भी हाल ए दिल सुनते नहीं ।
जिंदगी किस तरह काट रहे हैं हम ,
काश को जानते ,मगर ,
हम ही हैं जो ख्वाब देखते रहते हैं उनके
वो यह जाने कभी ,फुर्सत में हो रहते नहीं ।
एक वो हैं कभी खाब्ब बुनते नहीं ।
सहते हैं हम फिर भी कुछ कहते ।
13 Oct 1989. 110

Aas
Sehitey Hain Hum phir bhi kuch khate Nahi,
 Dil ho chuka hai Unka phir bhi ho is Mein Rehte nahi,
 Juckmow se bhara hai Ye Di,
Agar wo mil Jate ,to Daag Dil Pe Rehte nahi.
 Jhakamnon ke saath Daag unhon ne diye .
j o chup Rehte Hain kabhi kuch khate nahi.
 dekhte hain wo ,gum seh  Rahe Hain Hum.
 Vo phir bhi Haal E Dil Sunte Nahi .
Zindagi Kis Tarah kaat Rahe Hain Hum ,
kaash vo Jante, Magar
Vo Ye Jane Kabhi Fursat Ho Rehte nahin.
 hum hi hai jo khab Dekhte Rehte Hain Unke
Ek Woh Hai Kabhi khab bunta Nahi.
 Sehte Hain Hum phir bhi kuch Kehte nahi..

Tuesday, 27 December 2016

बच गया दामन मोहब्बत से (Buch gya daman Mohabbat Se)

कितना सुकून मिला है दिल को
 बच गया जो दामन मोहब्बत से
बेझिझक पूछ लिया तुमको
कोई बात नहीं हुई उधर से
 हम यूं ही डरते रहे अपनी खता से
उन्हें खता का पता भी ना चला
चलो हम निकल गए दामन बचा के
 हमें आगे सोचने का मौका तो मिला
 अब जिंदगी में कोई उलझन नहीं
खुद से भी हमको कोई रंज नहीं
कितना खुश हूं आज
 राज रहा जो दिल का राज
अब तो मिट गया है सुरूर
 नहीं हमें मोहब्बत पे गुरुर
जिंदगी बर्बाद करती है ये
 चाहे होता नहीं इसमें इसका कसूर।
26Aug2016.   77

Buch gya daman Mohabbat Se
 Kitna sukun Mila Hai Dil Ko
 Bach Gaya Jo Daman Mohabbat Se
 Bekijk pooch liya Tumko
koi baat nahi hui Udhar Se
Hum Yuhi darte Rahe Apni khata Se
 Unhen khatta Ka Pata bhi na cha la.
 chalo Hum Nikal Gayi Daman Bicha Ke
Hame Aage Sochne ka mauka to Mila .
Ab Zindagi Mein Koi uljhan Nahi.
 Khud Se Bhi Humko koi ranj nahin.
Kitna Khush hun Aaj
Raj Raha Jo Dil Ka Raaz
Ab to mit gya hai Suroor
nahi humain Mohabbat pe guroor
Zindagi barbaad krti he ye
Chahe Hota nahi iis mein iska Kasoor.

Monday, 26 December 2016

उनकी बेरुखी(unki berukhi)

हमने बुलाया उन्हें आवाज दे दे के,
 एक वो हैं की उनकी नजर भी हमारी तरफ ना हुई ।
हम उनके ही रह इल्जा़म लेकर भी,
 एक वो हैं की उनकी बेरुखी कम ना हुई ।
सबने देखा हमारी ओर जब हम ने आवाज दी,
 एक वो हैं की ऐसे बने रहे जैसे कोई बात ही ना हुई ।
अंजाम तो देख लिया हमने दिल का ,
हसरत जो थी मेरे दिल कि वह कभी पूरी न हुई।
7 Aug 1989 65. 26 Dec 2016
Hum Ne Bulaya unahi Awaz De De K .
Ek wo Hain Ki Unki Nazar Hamari Taraf Na Hui.
 Hum unke he Rahe iljaam Leke Bhi.
 Ek Ho hai ki berukhi kam Na Hui .
Sab Ne Dekha Hamari aur ,Jab Hum Ne Awaz De.
 Ek vo Hain ke Aise Bne Rahe Jaise koi baat Na Hui .
Anjaam Tu dekh liya Humne Dil Ka.,
Hasrat jo thi Mere Dil Ki vo kbhi poori na hui.

Sunday, 25 December 2016

पैगाम ए यार (Pegam e yaar)

दीया तो है यार के हाथ पैगाम ए मोहब्बत
काश वो ना दे पाए ।
अब संभाल लिया है दिल को ,
कुछ देर और संभल जाए।
 हम खुद ही करें इजहार,
 काश, ऐसा ही वक्त आए ।
हम भी कैसे दीवाने हैं ,
दिल को ही अपने ना समझ पाए ।
शांत रखो अपने मन को ,
अच्छा हो अगर यूं ही जिंदगी निकल जाए।
 क्या जाने मोहब्बत कर के,
 उमर भर को तड़पना पड़ जाए ।
सपने जो सजाओ ,
पूरे हो पाए या ना हो पाए ।
ऐसा ना हो मोहब्बत में ,
शाम वक्त से पहले ही ढल जाए।
 इसलिए कहता हूं ए दिल,
 शांत हो जा तू ,
अच्छा हो अगर वक्त यूं ही निकल जाए।
4Nov 1989 120
Diya Hai Yaar ke haath pegamein Mohabbat
Ka sh vo Na De pai.
Ab Sambhal Liya Hai Dil Ko ,
Kuch der or Sambhal Jaaye .
Hum Khud Hi Kare izhaar,
 Kaash Aisa h vakti Aaye .
Hum Bhi Kaise Deewane Hain,
 Dil Ko Apne Na Samajh Paye .
Shant Rakho Apne Man ko,
 achha Ho Agar Zindagi yun he nikal jae.
 Kya Jaane yun he Mohabbat Karke ,
Umar Bhar Ko tadpna pad jae.
 Sapne jo sajao,
Poore Ho paY Na Ho paen
Aisa Na Ho Mohabbat me,
 shaam Waqt se pehle he dhal jae.
is Liye kaitha Hoon Ye Dil ,
Shant hooja tu,
Accha ho  agar wakt yun hi nikal jaye.

Saturday, 24 December 2016

इश्क की बाजी ली हमने ,
वो गए दिल हार ।
पत्थर दिल थे वो तो मगर,
 हमने सिखा दिया उन्हें प्यार।
 वो हमसे दूर ही दूर रहे ,मगर ,
हमने भी होने ना दी तकरार ।
वो तो हां कहना नहीं चाहते थे ,मगर ,
हमने भी करने ना दिया इंकार ।
वह तो दूर दूर जाते रहे ,मगर ,
हम भी पीछे-पीछे आते रहे लगातार ।
उन्होंने कोशिश तो बहुत की छुपाने की ,
मगर, कर बैठे आंखिर इजहार ।
केवल हम ही उन पर नहीं मरते थे ,
वह भी हमें करते थे प्यार।
1Nov 1989.    116
Ishq Ki Bazi li Humne,
Woh Gaye Dil Har.
Pathar Dil the wo , magar,
 Humne Sikha Diya unhe Pyar .
Woh Toh Humse dur he Dur Rahe, magar,
Humne bhi Hone Na De tkharar .
Woh Toh Haan Kehna nahi Chahte tHai
 Magar, Humne bhi Karena na Dia inkar.
 woh toh Dur Dur Jate Rahe, magar,
Hum Bhi Piche Piche Aate Rahe Lagatar.
UNhoni koshish Toh Bahut ki chiPane Ki,
 Magar, kr baithe Aakhir izhaar .
cavel Hum unpe nahin Marte the,
Voby Hame Karte the Pyar

Friday, 23 December 2016

देख लिया चाहने वालों को(Dekh liya chahne Walon Ko )

आंसूओं के संग अरमान भी बहा रहा हूं
अलविदा
अब मैं तेरी जिंदगी से चला जा रहा हूं ः
भूल मुझसे कोई हो तो माफ करना ,
मैं दिल का यह दिया बुझा रहा हूं ।
मैं तेरी जिंदगी से चला जा रहा हूं ।
नहीं जानता कहां जाते हैं यह रास्ते ,
मगर, मैं अपनी ही धुन में बड़ा जा रहा हूँ।

तेरी जिंदगी ........
वफा भी देखी बेवफाई भी देखी ,
प्यार भी देखा रुसवाई भी देखी ,
नफरत भी देखी बे हयाई भी देखी ,
जहां यह सब ना हो ,
ऐसी ही मंजिल का पता पा रहा हूं ।
मैं तेरी जिंदगी से चला ..।।।।।
तुम जैसे राहों में हजारों मिलेंगे ,
यही सोचकर मैं डरा जा रहा हूं ,
नहीं चाहता ऐसे लोगों से मिलना ,
तभी तो मैं खुद ही में मिटा जा रहा हूं ,
अपनी जिंदगी से चला जा रहा हूं ।
मौत ही अब है मेरी मंजिल
उन्हीं राहों पे कदम बढ़ा  रहा हूं।
तेरी जिन्दगी से ....।।।।
4Sept 1989.   88
Dekh liya Jane Walo Ko
Aankhon Ke Sang armaan Bhi bha Raha Hoon.
 Alvida ,
Ab Main Teri Zindagi Se Chala Ja Raha Hun .
Bhool mujhse koi ho toh maaf karna.
 Main Dil ka ye Diya bujha Raha Hoon.
 Main Teri Zindagi Se Chala Ja Raha Hun.
nahi Janta kahan Jaate Hain Yeh Raste,
 Magar ,Main Apni hi dhun main bdha jaa raha hoon .
Teri Zindagi Se .......
Wafa bhi dekhi Bewafai ki dekhi.
 Pyar Bhi Dekha ruswai bhi Dekhi,
 Nafrat bhi Dekhe behyai bhi dekhi.
 Jahaan ye sab na houn .
aisi hi manzil ka pata kar raha hoon .
Main Zindagi Se ...........
Tum JaiseRahoon mei haroon Milenge.
 Yehi Soch kar main ghbra raha hun.
 nahi chahta aise Logon se milna .
TBhi tou m ei khud hi mita Jaa Raha Hoon.
Apni Zindagi Se chlaJa Raha Hai Hum .
Maut hi ab hai Meri Manjil.
Umhin rahaoon pe main kadam bdha raha hoon.

Thursday, 22 December 2016

दर्द ए दिल(Darde e dil)

 न तड़पे थे कभी इतना किसी के लिए
यह क्या दर्द दे दिया तूने मुझे पीने के लिए
 कैसा गम दिया यह तूने मुझे जीने के लिए
कभी इतना दुख ना पाया था हमने जिंदगी के लिए।

अब तो संभलता नहीं यह दिल किसी से कहे
क्यों ना अब आ कर इस दिल में रहे
जिसकी मुझे है तमन्ना तू आंखें वह मेरे कानों में कहे
आज खोल दे तू दिल के द्वार ताकि कोई तमन्ना न बाकी रहे ।।

इस जमाने ने किसे खुशी के फूल हैं दिए
जो भी हुआ दीवाना उसने तो जाम भर भर जहर के पिए
हम भी ज़हर गम का पी रहे हैं तुम्हारे लिए
  आ जा अब तो तंनहा हम बहुत जी लिए।।।
14Jan1990   151
Na Tadpe the Hum Kabhi Itna Kisi Ke Liye
Ye  Kya Dard de diya tumne Mujhe Peene ke liye
Kaisa Gham Diya Hai Tumne Mujhe Jeene Ke liye
 Kabhi itna dukh Na Paya Tha Humne Zindagi Ke Liye

Ab To sambhalta Nahi Ye Dil Kisi Ki kahe
Kyun Na Tu Ab aa Kar Is Dil Me rahe
 Jiski Mujhe Hai Tamanna ,tu Aa ke vo Mere kanon Mein Kahe.
 Aaj khol de tu dil ke Dwar taki Khoi Tamanna baki na Rahe

Is Zamane ne kise Khushi Ke phool  Hain diye
 Jo Bhi Hua Diwana usne to Jaam bhar bhar jeher k piye
  Hum Bhi jeher gum ka p  Rahe Hain Tumhare Liye
Aajaa ab tou tanhaan  hum bahut jee liye


Wednesday, 21 December 2016

मंजिल और कदम (Manzil or kadam)

जिंदगी का जो मुकाम बनाया हमने
रास्ते बड़े आसान थे
 राहें तो सीधी थी
फिर भी ना जाने क्यों हम
उन्हें देखकर आगे जा ना सके।

 हम उन्हें देखकर सोच भी ना सके
कि हम जमीन थे, तो वह आसमान थे
शायद नजर थी हमारी उन पर
बनाना चाहते थे उनको हम सफर
 मगर उन्हें अपना बना ना सके।।

 राह तकते रहे उनकी हम भी कैसे नादान थे
 मंजिल तो यहां से भी दिखाई देती थी
पर उनके साथ चलने की चाह में
 हम मंजिल को पा ना सके।।।
27 |Sept 2016.  102
Man,il or kadam
Zindagi Ka Jo Mukam Banaya humm ne
Raste Bade Assam The
 Rahain To sidhi thi
 Phir Bhi Na Jaane Kyun
Hum unnhei dekh Kar aage jaa Na Sake
.
 Hum unhein Dekh Kar Soch Bhi Na Sake
 ki hum Zameen the tou wo Aasman the.
Shayad nazar Thi Hamari unper
 banana Chahte thie unKo Apna Humsafar
Magar unhe apna bana na sake.

 Rahe takte rhe unki Hum Kaise Hai Nadan the
 Manjil tou  yahan se bhi Dikhai deti Thi
Par unke sath chalne ki chah main
Hum manjil ko pa Na Sake.

Tuesday, 20 December 2016

प्यार में सब कुछ सहना पड़ता है ( Pyar Me Sab Kuch sehna padta hai)

क्या कहें मंजूर तो हमको भी नहीं वो बात मगर ,
प्यार में सब कुछ सहना पड़ता है ।
चाहे कहना जो भी चाहते हो ,उन्हें हम,
 मगर कुछ सोचकर चुप रहना पड़ता है ।
वह चाहे जितने भी सितम करें हम पर ,
संग रहने की कसम जो खाई है ,
सब कुछ सहना पड़ता है ।
चाहें दूर जाना भी ,उनसे मगर,
 साथ साथ ही रहना पड़ता है ।
कभी ऐसा भी होता है कि सहना जरूरी नहीं ।
मगर कभी सहन करने के लिए भी सहना पड़ता है।
 कभी ऐसा भी होता है कि रहना जरूरी है ,
मगर कभी ना रह कर भी रह रह भी करर हना पड़ता है ।
वह सितम करते हैं तो कोशिश होती है की गौर न करें ,
मगर सुनकर तो सहना ही पड़ता है ।
वो बेरुखी करें तो भी क्या ,
हमें तो अपनी दोस्ती की हद में रहना ही पड़ता है।
25Sept 1989 99
Kya kehe Manjur TO humko bhi nahi Woh Baat Magar,
  Pyar Me Sab Kuch sehna padta hai,.
Chahei Kehna jo bhi chahte hon unhen hum,
Magar, kuch Soch kar chup rehna padta hai .
wo Chahe jitne bhi Sitam Kare Hum Par,
sang rahane Ki Kasam khayi Hai ,
Sab Kuch sehana padta hai.
 Chahen Dur Jana bhi Unse magar,
Sath Sath he Rehna padhta Hai .
Kabhi Aisa Bhi hota hai ki Sahana Zaruri Hai Magar,
 Kabhi sehen  karne ke liye bhi sehna padta hai.
 Kabhi Aisa Hota Hai Ke rehna Zaroori nahin,
Magar, Kabhi Na Rahe reh Ka r bhi rehna padta Hain .
Vo sitam krte h to koshish hoti hai ki gor na kare ,
Mager sun kar T ou sehna hi padta hai .
woh beRookhi Kare to kya,
Humne To ,apni dosti ki had Mein rehna hi padta hai.

Monday, 19 December 2016

लूटते रहे दोस्तों के हाथों हम (Lut Te Rahe doston Ke haathon Hum)

लूटते रहे दोस्तों के हाथों हम ,
फिर भी कुछ कह ना पाए।
 जानते थे ,कि वह लूट रहे हैं मुझे ,
फिर भी कुछ कह ना पाए ।
उन्हें तो कोई परवाह ही नहीं,
 कहते हैं दोस्ती जाती है तो जाए ।
चलते हैं सीना तान के वह ,
उनके पीछे वाला चाहे दुख ही पाये।
 कटाक्ष करते हैं वह तीखे उन्हें क्या ,
कोई दिल को लगाता है तो लगाए ।
वो तो अपने मन की करेंगे ,
चाहे दूसरा साथ निभाए ना निभाए।
  वो तो पैरों तले कुचल देंगे सपनों को ,
चाहे उनके लिए कोई आंखें बिछाए ।
उन्हें तो अपने काम से मतलब ,
किसी की जान जाती है तो जाए।
25 Sept 1989 100

Lut  Te Rahe doston Ke haathon Hum,
Phir Bhi Kuch Kar Nahi paye.
Jante the ke woh loot rahe hain mujhe,
phir bhi kuch keh nahai pai.
unhe tuo koi Parwah hi Nahi,
kehte hain Dosti Jati Hai Tu jaye.
 Chalte Hain Seena Taan Ke vo,
Unke Peechhe Wala Chahe Dukh Hi Paye.
 Cuttacksh krte Hain voh tekhay ,unhe kya ,
Koi dil ko l gata Hai tou Lagay e.
Voh Toh Apne Man Ki Karenge,
chahiye Doosra Sath Nibhaye na nibhye.
Vo to Pairun tale kuchal Denge Sapno ko,
 Chahe unKe Liye Koi aankhen Bichaye .
Unhein tou Apne kaam se matlab,
 Kisi Ki  Jaan Jati Hai Tuo Jai

Sunday, 18 December 2016

यादों के दीप(Yadon k deep)

तेरे अरमानो के में गीत गा रहा हूं।
 नैनों में अपने तेरी यादों के मैं दीप जला रहा हूं ।
1.हसरत थी मेरी रहती तू सदा मेरे पास ,
   लेकिन मुझे दिखाई देती ना कभी उदास।
2. चंद लम्हों को गुजारा था हमने कभी एक साथ ,
   तस्वीर हो जाती है कि मन में जो मेरे तेरी याद ।
3.तुम सोचती हो मैं यहां हूँ खुश ,
   क्या जानो गम में जल रहे हैं तेरे ।
   तुम बैठी होगी वहां पर गुम सुम।
4.तुम क्या जानो जाम पी रहे हैं ,
   यहां रातों को जाग के तेरी याद में हम।
   सामने न आई आई तो बस खयालों के अंधेरों में ।
   तेरी यादों के मैं दीप जला रहा हूं ,नैनों में अपने।
    तेरे अरमानों के गीत मैं गीत गा रहा हूं ।
1987 001
Yaadon Ke Deep
Teri Armaanon k mein geet Gaa Raha Hoon.
Nainon Main Apne Teri Yaadon Ke Main deep Jala Raha .
 Hasrat Thi Meri Rahe Tu Sada mere paas.
 lekin mujhe Dikhai deti Na Kabhi To udass.
2. Chand Lamhon ko Gujara tha Humne kBhi Ek Sath.
 Tasveer Ho Jaati Hai ,Thi Jo man Me Teri Yaad .
3.Tum sochti Ho Main yahaan Hoon Khush ,
  kya Janu gum main jal rahi hain Tere.
Tum Bethi Ho gi vahan pe Gum Sum.
 kya jano jaam pee rahe hainYahan,
  raaton Ko jaag k Teri Yaad Mein ,
Samne na aai,aai to bas khyaalon k andheron main.
Teri Yaadon Ke Deep jhala raha hoon main.
 Nainon main apne .
Tere Armaanon k geet gaa rha Hoon Main.

Saturday, 17 December 2016

तुम्हें हम चाह कर बर्बाद हो गए (Tumhe Hum Chah Ke BaarBaad Ho Gaye


 हम चाह कर बर्बाद हो गए ।
हमें तुम छोड़कर आबाद हो गए ।
क्या क्या सपने थे हमारे ,
हमें तुम थे जान से प्यारे ,
तुम्हें हम चाहते थे इतना ,
कि तुम जान थे हमारे ।
यह कैसी हवा चली कि बादल छा गए ।
तुम्हें हम...........।
2. जब तुमसे मुलाकात हुई ।
दिन ढला रात हुई ।
अपनी आंखों ही आंखों में ,
प्यार की बात हुई ।
मगर, सपना टूट गया ,हम घबरा गए ।
तुम्हें हम चाह के.....।।
3. यही अब चाह है मेरी ,
रहे जिंदगी आबाद बस तेरी,
 हर सपना साकार हो तेरा ,
यही बस आरजू है मेरी ।
हम तो तुम्हें चाह कर भी सब पा गए ।
तुम्हें हम चाह कर....।।।
26Nov1989.     124
Tumhe Hum Chah Ke BaarBaad Ho Gaye
hume tum Chhod Ke aaBaad ho gaye.
1. kya Kya Sapne the Hamare ,
Hame Tum the jaan se pyare,
Tumhe Hum chahte hai itna ,
ki tum Jaan the Hamare .
Yeh Kaisi Hawa Chali ki Badal chaa Gaye.
 Tumhe Hum Chah ke ....
2. Jab Tumse Mulakat Hui ,
Din Dhalaa Raat Hui ,
apni Aankhon Hi Aankhon Mein,
 Pyar ki baat hui .
Magar Sapna Toot Gaya.
 Hum Gabbar Aa Gaye.
Tumhe Hum chah Ke.....
3. Yahi ab Chaha Hai Meri ,
Rhe Zindagi AbBaad bus Teri ,
Har Sapna Sakar Ho Tera ,
Yehi bas Aarzoo Hai Meri .
Hum to Tumhe chah kar he Sab pa gae.
Tumhe Hum chah Ke......

Friday, 16 December 2016

टूटते तारे (Tut-te tare)

सपने टूटे ,
महल टूटे ,
बिखर गया मेरे दिल का जहां ।
ए मौत मुझे बुला ले ,
मुझे गले से लगा ले,
 क्यों रहूंँ मैं वहां ,
जहां उजड़ा मेरा गुलसतां।
 हर उमंग  टूट गई ,
हर तरंग छूट गई।
क्यों रहूं वहां करार ना हो जहां ।
पुकारता हूँ तुझे ,
ले चल अब मुझे ,
क्यों रहूं यहां जहां ,
चुप है जमीं, चुप आसमां ।
तनहाई डस्ती है मुझे ,
तेरी राह तकती है मुझे ,
अब तो चलूंगा वहां ,
करार ही करार हो जहां ।
शायद वह मंजिल तेरी ही है ,
ऐ मौत हो जा मुझ पर मेहरबां।
ले चल मुझे वहां ,जहां तेरा है जहां।
8 Oct 1989.  108
Tut-te tar
Sapne Tute
Mahal  tute
bikhar Gaya Mere Dil Ka Jahan .
ai Mout Mujhe Bula lay.
 Mujhe Gale Se Laga ley .
kyon  rahoon main wahan
 Jahan ujra Mera gulSitan.
Har umang Tut Gayi .
Har Tarang chut Gayi .
Kyun Rahoon vohan Kharar Na Ho jahan.
PuKarta Hoon Tujhe ,
Le Chal ab Mujhe .
Kyun rhoon Yahan jahan,
 chup Hai Zameen ,chup Asman.
 Tanhai  Dassti Hai Mujhe,
 Teri raah takti Hai Mujhe.
 Ab To chaloon vahan ,
Karar hi karar ho jahan.
Shayad vai Manzil Teri Hi hai.
E Mout ho ja mujh Par meharbaan.
Le chal mujhe vahan jahan tera hai jahan.

Thursday, 15 December 2016

एहसास़ ए नज़दीकियां(Ehsaas e nazdeekiyan)

तुम चाहे पास ना थे,
फिर भी ना जाने क्यों लगता था कोई पास तो है ।
तुम्हारे जाने से जिंदगी वीरान हो गई,
फिर भी अब कोई आस तो है।
 बड़ी कोशिश करते हैं मन को मनाने की ,
क्या करें फिर भी ये उदास तो है ।
जी रहे हैं हम जैसे भी मगर ,
इस का अपना अलग इक अंदाज़ तो है ।
तुमसे मिल नहीं पाए हम,
 मगर ,मन में मिलन की प्यास तो है।
कह नहीं पाए तुम से हम कुछ भी ,
मगर,दिल में मेरे जज़्बात तो है ।
मन गुलाम है तेरा ,
फिर भी तन मेरा आजाद तो है ।
सुन ले अब तो मेरे हमदम ,
मन में मेरे फरियाद जो है ।
24,Sept 1989 98
Ehsaas nazdeekiyan
Tum Chahe paas na the Phir Bhi Na Jaane Kyun lagta tha Koi Paas To Hai .
Tumhare Jane Se Zindagi viraan Ho Gayi ,phir bhi ab ko koi Tou Hai .
Badi koshish Karte Hain Man Ko manane Ki, Kya Kare phir bhi yai Udhas Tu Hai .
Ji Rahe Hain Hum Jaise Bhi Magar ,iska Apna alag ek Andaz Tu Hai .
Tum Se Mil nahi Paye Hum, mager, Mun may Milan Ki Pyaas Tu Hai .
K eh Nahi pai Tumse hum kuch bhi, mager, Dil Mein Mere Jazbaat Tu Hai.
man Gulam Hai Tera Phir Bhi ,tan Mera azad Tu Hai .
Sun Le ab Tu Mere Hum Dum, Man Mein Mere Fariyad Jo Hai

Wednesday, 14 December 2016

प्यार ही प्यार बेशुमार (Pyar he Pyar beshumar )

चाहने वाले की हर खता दिखती नहीं ,
क्योंकि ,हर खता में प्यार का पैगाम दिखाई देता है ।
हर खता उनकी होती है चाहे कितनी बड़ी,
 मगर ,दीवानों को वो भरा जाम दिखाई देता है ।
वो नहीं जानते कि खता का अंजाम क्या होगा ,
क्योंकि, उन्हें तो बस आज ही आज दिखाई देता है ।
वो नशे में झूमते रहते हैं शम्मा के साथ ,
नहीं जानते शम्मामा के साथ परवाना भी जलता दिखाई देता है ।
शाम ढलती रहती है जवानी सी,
 मगर ,उन्हें तो बस जाम ही जाम  दिखाई देता है।
 पीते रहते हैं बिना सोचे समझे ,
और, खतरे का रास्ता भी आम दिखाई देता है।
 जब वहां से रुख करते हैं अपने घर का,
 तलाश में ,हर घर अपना ही दिखाई देता है ।
इनकी जिंदगी शायद हकीकत नहीं बन सकती ,
क्योंकि ,इनको तो सब कुछ सपना ही दिखाई देता है।
23 Sept 1989  95

Hindi in english alphabets.....

Pyar he Pyar beshumar
Chahane Wale Ki Har Khata dikhti nahi. Kyunki Har Khata Me Pyar Ka pegam Dikhai Deta Hai .
Har Khata unki Hoti Hai Chahe Kitni Badi ,
Magar Deewano Ko vo, bHaraah jaam dikha deta hai .
woh Nahi Jante ki Khata Ka Anjaam Kya Hoga,
Kyun Ki unhein To Bas,
Aaj hi Aaj Dikhai Deta Hai .
Vo Nashe Mein Jhoomte Rahte Hai Shamma ke sath,
 Nahi Jaante Shamaa ke saath Parwana bhi Jalta Dikhai Deta Hai .
Sham dhalti Rehti Hai Jawani C,
Magar, une to bas jaam jaam Dikhai Deta Hai .
peetey Rehte Hain Bina soche samjhe ,
aur khathare ka rasta bhi aamDikhai Deta Hai.
Jab wahan se Rukh kerte hain apne ghar ka,
Talash Mein ,Har Ghar apna hi Dikhai Deta Hai .
Inki Zindagi Shayad Haqeeqat nahi ban sakt,,
i Kyunki, in ko tou sab kuch Sapna Hi Dikhai deta hai.

Tuesday, 13 December 2016

पता क्या था बन कांटे वो चुभेगें।(Pata kya tha Ban Kaante wo chubhange )

पाले थे थे फूल मैंने कितने नाजों से ,
पता क्या था बन कांटे वो चुभेगें।
 महकाएंगे चमन को मेरे जब वो खिलेंगे ,
इस आस से सींचा उस उपवन को ।
पता क्या था वन कांटे को चुभेंगे ।
पल पल बढ़ते देखा उनको ,
हवा से धूप से बचाते रहे ,
खिलने पर यूं रूप बदलेंगे।
पता क्या था बन कांटे वो चुभेंगे।
 फूल कहता सहारा नहीं चाहिए तुम्हारा ,
देख लूंगा मैं खुद ही तेज हवाओं को ।
कैसे देखूं बिखरते हुए उस फूल को ,
जिस को सींचा मैंने खून से ।
आज महकते हैं कितनी शान से ,
रंग ए खुशबू फैलाते हैं दुनिया में ,
पता क्या था बन कांटे वह मुझे ही चुभेंगे।
13 Dec 2016
Phool bane kaante
Palei The Phool maine kitne Naaz se.
 Pata kya tha Ban Kaante wo chubhange .
Mehkayenge Chaman ko mere Jab khilenge,
 is Aas se seencHa us upvan ko.
Pata kya tha ban Kaante vo chubhenge .
Pal Pal Badte Dekha unko .
Hawa se dhoop say Bachatey Rahe.
Khilne pe yu Roop badLenge.
 Pata kya tha bann Kante vo chubaige.
 Phool kehta Sahara Nahi Chahiye Tumhara.
dekh Loonga main khud hi tej hwaon ko.
kaise Dekhun bikharte hue us phool ko.
Jisco Sincha maine Khoon Se .
Aaj Mehktae Hain Kitni Shaan Se.
 Rang e Khushboo phelAate Hain Duniya Mein .
Pata kya tha bun Kaante Wo Mujhe hi chub henge

45 दिल से मिला लो दिल (Dil se mila lo dil)

क्या बताऊं के दिल का हाल क्या है ।
तुम्हारे बिना कुछ सोचे ,इसकी मजाल क्या है ।
तकदीर देख खेल रही है हमसे कैसे-कैसे खेल ।
तभी तो अब तक हो नहीं पाया है दिलों का मेल ।
दूर ही से नजरों की प्यास बुझा लेते हैं ।
तसल्ली देते हैं खुद को, दिल को मना लेते हैं ।
और कर भी क्या सकते हैं ।
जी के मर रहे हैं ।
या मर के जी सकते हैं ।
तमन्ना का गला घोंटना चाहते हैं ।
मगर ,दिल को कौन समझाए।
 तुम्हें भी तो चैन नहीं आता ,
हमें बिन सताए ।
क्यों होसला नहीं करते कुछ बात हमें कहने की ,
अब तो हद पार हो रही है हमारी गम सहने की।
30June 1989   45
Dil se mila lo dil
Kya Bataun Dil Ka Haal Kya Hai .
Tumhare Bina Kuch Soche iski majal kya hai .
Taqdeer dekh Khel Rahi Hai Hum Se Kaise Kaise Khel.
Tabhi toh ab tak ho nahi paya Hai Dilo Ka mail .
Dur he se Nazron Ki Pyas Bujha lete hain.
 Tasalli dete hain Khud Ko Dil Ko mana Lete Hain .
Aur kr Bhi kya sakte hain.
 ji ke mar rahe hain.
 ya Mar Ke Jee sakte hain .
Tamanna ka Gala ghotna Chahte Hai.
Magar ,Dil Ko Kaun samjhaye.
 Tumhe bhe To Chain Nahi Aata Huame bin Sataye .
kyun honsla nahi karte kuch Baat Hame kehne ki.
Ab to hud paar ho rhi h hmaari gum sehne ki.

Monday, 12 December 2016

44 वक्त (Waqt)

कैसा वक्त आया है ,दिल का बुरा हाल हुआ है ।
कुछ कहना तो दूर, उनसे कुछ पूछना भी दुश्वार हुआ है।
 1.कभी वो किस तरह हँस हँस के बात करते थे ,
हम उनकी एक हँसी पे मरते थे ।
मगर ,अब तो तीखा उनका हर वार हुआ है ।
कुछ कहना तो दूर ......।
2.इस तरह के तीर वह चलाते हैं नजरों से,
 के शूल से जिगर में चुभते हैं ,
हर निशाना है उनका अचूक,
 हर तीर दिल के पार हुआ है ।
कुछ कहना तो दूर उनसे कुछ ......।।
3. कभी जब वह दुआ करते थे हमारी लंबी उम्र की ,
तो स्वर्ग की भी तमन्ना ना थी ।
मगर ,अब तो नरक सा यह संसार हुआ है।।।
कुछ कहना तो दूर, उनसे कुछ पूछना भी दुश्वार हुआ है ।
कैसा वक्त आया है दिल का बुरा हाल हुआ है।
24 June 1989.  44
 Waqt
kaisa whkat aaya Hi Dil Ka Bura Haal hua hai .
kuch kehna To Dur unse kuch puchna bhi dushwar Hua Hai .
Kabhi wo Kis tareh hans hans Ke Baat Karte thai .
Hum Unki Ek Hasi Pe Marte theiy.
Magar ,ab toh tiikha unka Har vaar Hua Hai. Kuch Kehna to ........
Is tareh k Teeer Bou ChaleAate Hain Nazron Se .
 Ke Shool Se Jigar Mein Chubh te Hain.
 Har Nishana hi un ka Achook .
Har teer Dil Ke Paar Hua Hai .
Kuch Kehna to Dur ...
Kabhi Jab Wo Dua Karte the Hamari lambi umar ki ,
Tou Swarg Ki bhi Tamanna na Thi .
Magar ,ab toh nara sa Ye Sansar hua hai.
kuch kehna To Dur Unse kuch puchna bhi dushwar hua hai ..
kaise vkat aaya hai Dil Ka Bura Haal Hua Hai.

Sunday, 11 December 2016

176 डोगरी गीत (Dogri geet)

1.तिजो याद करी करी के मेरी ताँ जान लगी जाना ।
   दस्सी दे वो  तू काहली हुंण ऐथी औणा।

2. तेरिया बाटा बैठी मैं नीर हां बहांदी ।
    पुछी पुछी तेरा पता मैं हारी, जेड़ी जेड़ी  गड्डी जांदी ।

3.सारे करदे गलां मिंजो  देखी गुमसुम।
   दस्सी दे काहली औणा ऐथी  हुन।

25march 1990.   176

1.Tejo Yaad Kari Kari K meri tan  jaan Lagdi Jana.
 Dassi De Wo to Kali hun Aithi ona.

2.Teriya bata bethi main neer haan behanDe.
 puchi puchi Tera Pata Main haari, jehdi Gaddi Jandi .

3.Sare karde gallan minJo Deki gumsum.
Dassi de  Bou tu kaahly airhin anaa.

Friday, 9 December 2016

क्यों सोचें तुम्हारे लिए (Kyun soche Tumhare Liye )


सोच सोच कर हमने सोचा
 सोचें क्यों तुम्हारे लिए ।
तुमने जो हमें बर्बाद किया ,
तुम्हारी इस खुशी का जश्न मनाएं ,
या  रोंए अपने लिए ।
नई मंजिल तलाश करें ,
या ढूंढे उस मंजिल को,
 जिसके वादे झूठे तुमने किए।
 रंग ए वफा की एक तस्वीर बनाना चाहता था मैं ।
तुमने मेरे सपनों के महल ढाह दिए ।
तस्वीर बनाई है मगर,
 रंग भरुँ किस तरह इस तस्वीर में।
 तुमने तो जिंदगी के रंग ही छीन लिए।
10 Aug 1989. 68
Soch Soch kar Humne Socha.
 Sochen Kyun Tumhare Liye .
Tum Ne Jo Hame Barbad kiya ,
tumhari is Khushi Ka Jashan manayen
Ya roen apne liye .
nai Manzil Talash Karen.
 yaa dhunde us  manzil ko .
jis ki vaadein Jhoothe Tumne kiye.
 Range Wafa ki tasveer banana Chahta Tha Main .
Tumne Mere Sapno Ke Mahal dah Diye.
Tasveer Banai Hai Magar
 Rang bharun Kisse tarah Is Tasveer mai .
Tumne Toh Zindagi Ke Rang hi cheen Liye.

Thursday, 8 December 2016

तू भी तड़पे कभी मेरी तरह (Tu be tadpaye Kabhi Meri Tarah )


सि्तमगर तुझे किस नाम से पुकारुँ
 कि हर जख्म मेरा भर जाए।
 तू जो देखे मेरे इस अंदाज को
तो हर ज़ख्म तेरा हरा हो जाए ।
जिस मोड़ पर छोड़ा तुमने मुझे ,
उस मोड़ पर लाकर तुम्हें भी कोई छोड़ जाए ।
आज तेरा नाम ए बेवफाई याद कर के,
 जो तड़प उठती है।
 उसी दर्द ए गम का तुझे भी ,
कोई एहसास कराए ।
तुम हमसे हमारा हाल ए़ जिगर पूछो,
 ए काश ,कभी ऐसा भी दौर आए।

8 Aug 1989. 67
Hindi in English alphabets....

E Sitam gar Tujhe kis naam se pukaroon .
Ki Har Zakhm Mera bhar Jai.
Tu Jo Dekhe Mere is andaaz Ko .
Tu Har zkham Tera hara hou jae.
l jis Mod Pe Choda tumne mujhe .
Us mod pe tumhe bhi koi Chod Jaye .
Aaj Tera Naam e  Bewafai Yaad Karke ,
Jo tadap uthti Hai.
Usi Dard e Gam ka Tujhe Bhi Koi Ehsaas karae.
Tum Humse Hamara Haal E Jigar poocho
ey Kaash Kabhi Aisa Bhi  dour (din)Aaye.

English meaning.....
English meaning...
What name I give you for hurting me.
 So that every wound  may be filled.
 Thou hast seen me, to the style
 your wound turns fresh
On  turn where you left me ,
Somebody left you in the same way
Your Infidelity put me in pain.
I want you to also pass through this .
So that time come and you understand my pain and ask me how I feel.

Wednesday, 7 December 2016

पा ना सके बहुत मजबूर थे (Paa Na Sake bahut Majboor they)

 जिंदगी भर को तेरा साथ चाहा था
 मगर  दौर ऐसा आया कि सपना चूर हो गया ।
सपना देखा जो रात को ,
सुबह उठते ही नजरों से दूर हो गया ।
सोचा था चलेंगे साथ रहे कदम बनकर,
 मगर मोड़ ऐसा आया कि दिल मजबूर हो गया ।
जमाने के दर्पण में जो देखा तुमको ,
तो दिल का शीशा चूर हो गया।
7Aug 1989    66
Hindi in english alphabets

Zindagi Bhar Ko Tera Saath Chaha Tha.
 Magar duar Aisa aaya ki Sapna chur Ho Gaya .
Sapna Dekha jo raat ko ,subhe uthte hi Nazron Se Dur Ho Gaya.
 Socha Tha chalenge Saath chalen ge Rahe Kadam Bankar .
Magar Mod Aisa Aaya Dil Majboor Ho Gaya .
Zamane K Dharpan Me Jo Dekha Tumko To Dil Ka Sheesha choor ho Gaya

Tuesday, 6 December 2016

58 भूल जाएंगे तुम्हें हम (Bhool jayenge tumhe hum)

जब कभी तुम्हारी याद आएगी तो दिल को मना लेंगे।
अब खुद को हम, नजरों से ,
तुम्हारे चेहरे का तोहफा कहाँ देंगे ।
मगर ,कामयाब ना हो पाए हम इस इम्तिहान में ,
तो खुद को क्या सजा देंगे।
 दिल की तमन्ना जो ऊंची उठी भी कभी तो उसे दबा देंगे ।
खुद को मना लेंगे ।
तुम मंजिल पर पहुंच जाओ इसलिए खुद को,
तुम्हारी राहों से हटा देंगे।
3 Aug 1989.    58


Hindi in english alphabets
 Jab Kabhi Tumhari Yaad Aayegi Tuo Dil Ko Mana Lenge ,
Ab Khud Ko Hum Nazron Se, Tumhare Chehre Ka Tohfa kahan Denge.
 Tumhari Yaadon K shaare Jeena Nahi chahtie , isliye Tumhen Bhula Denge.
 magar, KamYab Na Ho Paye Hum is Imtihan Mein Tou, Khud Ko Kya Saza Denge .
Dil Ki Tamanna jo unchi uthi Bhi Kabhi Toh usse dba Denge.
 Khud Ko Mana Lenge .
Tum Manjil per pahunch  Jao isliye, khud ko Tumhari Rahon Se hta Denge.

Monday, 5 December 2016

202 सपने सुहाने (Spne Suhaane)

सपने तू देख उँचे ,कामयाबी और बढ़ने के ,
अपने मस्तिष्क के विचारों के ऊंचा उठने के लिए लड़ने दे ।
 सपनों को साकार करने के लिए संघर्ष कर। ।
चाहता हो सपनों को पूर्ण करना तो कर्म कर  ।पाना चाहता हो सपनों को, तो कर्म कर।
सपने तुझे  उत्साह और प्रेरणा देंगे।
मगर उन्हें पूरा करने के लिए श्रम का मूल्य लेंगे ।
अपने आदर्शों को स्थिर कर ,
मंज़िल तक कर जीवन में आगे बढ़ ।
आत्मविशवास को अपने जगा ले ।
सपनों को अपनी सार्थक बना ले।
  अपनी योग्यता पर विश्वास रख।
अपने कदमों को राहों से विचलित मत कर ।
तू उसे नहीं कर सकता है ऐसा मत सोच ।
मंजिल को पाने के लिए नया रास्ता खोज ।
आशा के निर्माण में बुद्धि लगा दे ।
हर सपना साकार करके दिखा दे।
24 july 1990    202

Sunday, 4 December 2016

205 लक्ष्य प्राप्ती (Lakshay prapti)

जीना है तो जीवन का कुछ लक्ष्य बना लो।
 मेहनत कर जीवन के लक्ष्य को पा लो ।
विचारों के प्रभाव को खुद और दूसरों पर बढ़ा लो।
सारी  क्रीया शक्तियों को संचालित कर डालो।
 खुद को अभागों में नहीं किस्मत वालों में गिन डालो।
 खुद पर लगी पाबंदी को हटा लो।
 अपनी स्मरण शक्ति बढ़ा लो ।
उत्साह,शक्ति, संतुलन ,समझदारी बढ़ा लो
और कदम मंजिल की और बढ़ा लो ।
परीक्षा अपने चरित्र शक्ति आकांक्षाओं की ले डालो ।
लक्ष्य जो मिल गया तो समझो ,
हर रास्ता तुमने तय कर लिया ।
जो श्रम तुमने किया उसका फल तुम ने पा लिया।
205 24July 1990

Friday, 2 December 2016

204 महान कार्य ( Mahan karya) Great work

संघर्ष जो करेगा तो महान कार्य खुद ही हो जाएगा ।
कदम जो सिर्फ आगे ही बढ़ाएगा तो हर रास्ता खुद ही तय हो जाएगा।
श्रम जो करेगा तो महान कार्य भी आसान हो जाएगा।
 जमाने का हर बड़ा काम तू आसानी से कर पाएगा।
 कदम कदम जो आगे बढ़ाएगा तो रास्ता खुद ही तय हो जाएगा ।
पाकर और पाने की इच्छा को अगर तू प्रबल बनाएगा।
 लगन, परिश्रम, से वह भी तू पा जाएगा।
 अपनी मनोवृति को जो निर्णयात्मक बनाएगा।
 तो दुनिया में कुछ भी ना पाने योग्य नहीं रह जाएगा ।
जिधर हाथ बढ़ाएगा  , वहींं मंजिल को तू पायेगा ।
24 July 1990  204

Hindi in English alphabets......

Sangharsh Jo Karega Mahan Karya khud he ho jayega
Kadam Jo sirf Aage badhyega to her Raasta Khud Hi tay Ho Jayega .
Shrm Jo Karega to Mahan Karya bhi Aasan Ho Jayega .
Jamane Ka har Bada Kham to Asani se kar payega.
Kadam Kadam Jao aage ba dhayega to Raasta Khud Hi tay Ho Jayega.
Parker aur Pane Ki Icha ko agar tu Prabal banayega .
Lagan, Parishram Se veh  Bhi Tu pa jaeyega.
Apni mnovreti ko jo nirniyatmak banayega To Duniya Mein Kuch Bhi Na Panie yogye nahi Reh Jayega .
Jidhar hath badyega, vahin manzil ko to paayega
24 july 1990  204

English meaning......

The effort will be the great work itself.
The only way to move forward is to take  step forward  and path itself will be fixed.
With Labour  great work will be easy.
 Every great work of modern era will become easy.
 Step will  decide  the way for yourself.
the desire to get and gain more will make you strong.
 Perseverance, hard work, will lead you to your desire.
 If you make your mind decisive.
 Then there would be nothing in the world, is not worth having.
Whither you will extend your power, thou shall you reach.

Thursday, 1 December 2016

203 महत्वकांक्षाएं (mhtavkankshyen)

हर मन में महत्वकांक्षाएं पलती हैं।
 हिम्मत अगर खो दो तो वह ढलती हैं ।
महत्वकांक्षा के साथ छोटी आकांक्षा जो टकराएगी।
 तो महत्वकांक्षा कमजोर हो जाएगी।
 अपना असर जो खो देगी वो,
 तो तुम क्या कुछ पा सका सकोगे ,जरा बोलो।
 खुद पर जो भरोसा है तुम्हें ,
तो निश्चय ही तू पाएगा उन्हे।
 मन जो सफलता के भावों से भरा होगा ।
तुम्हारा रास्ता भी फिर फूलों से भरा होगा ।
नाकारात्मक विषय में कभी मत सोचो ।
जो भी सोचो सकारात्मक सोचो ।
सोचो और बढ़ो ।
आगे बढ़ो श्रम करो ।
मंजिल को छू लो ।
नहीं पा सकते ,यह भूलो ।
पा लोगे तुम उसे ।
चाह है मन में पाने की जिसे।
203.   24 july 1990