Google+ Followers

Monday, 2 January 2017

236 तेरी तारीफ़ करने का होंसला नहीं कर पा रहे थे।
  मुश्किल से पास आ पाए हैं तेरे ,
पहचान तो लोगे न ,कौन हैं हम।
 हम हैं तेरे दीवाने,
 तुझसे तो क्या ,
खुद से भी हैं अनजाने।
 यू मुलाकात होगी तुझसे , सोच ना पाए थे कभी हम।
तेरी तलाश में ही शायद यहां तक पहुंचे हैं मेरे ये कदम।
पहचान जो लो, मुझे और मेरे जज्बात को,
 तो झिझकना मत मुझे कहने में अपना सनम।
236
Teri Tarif karne ka Hosla nahi kar pa rahi the.
 Mushkil se Passl Aa paye Hain Tere .
Pehchan Tu Loge Na, Kaun Hai Hum.
 Hum Tere Deewane,
Tujhse to kya,
Khud Se Bhi Hain Anjaane .
Yun Mulakat Hogi Tujhse Soch Na paey they Kabhi Hum .
Teri Talash Mein Hai Shayad Yahan Tak pahunche Hain Mere Ye Kadam .
Pehchaan jolo, mujhe or mere Jazbaat ko,
Tou jijhkna mat mujhe Kehna Mai Apna Sanam.