Google+ Followers

Wednesday, 11 January 2017

241 बहुत बेताब किया है तूने
अब तू भी देख ले बेरुखी क्या होती है ।
हम ही थे खोए अभी तक
 अब तू भी देख ले दिल्लगी क्या होती है ।
तड़पते रहे हम ही तेरे प्यार में
 अब तू ही देख ले जुदाई क्या होती है।
 तुम ने साथ न दिया कभी हमारा राहों में
अब तू भी देख ले तनहाई क्या होती है।
 किस तरह मोहरे बदलते हैं
अब तो जान गये होगे खुदाई क्या होती है।
241 29 Dec 1990
Bahut Betaab Kiya Hai Tune
Ab tu bhi dekh Le
BeRukhi kya hoti hai .
hum hi khoya abhi tak
Ab TU B dekh le
Dillagi kya hoti hai.
 Tadapte Rahe Hum Tere Pyar Mein
Ab Tu bhi  dekh le Judai kya hoti hai .
tumne Saath Na Diya kabhi Hamara Rahon Mai .
Ab tu bhi dekh le
Tanhaai kya hoti hai .
Kis tareh mohre badlte hain
Ab Toh jaan gae hoge
 Khudai  kya hoti hai.
Post a Comment