Google+ Followers

Monday, 9 January 2017

47 इंतजार (Intzaar)wait

 इंतजार कर रहे हैं तुम्हारा राह में आंखें बिछाए ।
इंतजार कर रहे हैं न जाने कब हमें तकदीर आपस में मिलाएं ।
इंतजार कर रहे हैं कि कब होंगे पूरे जो हमने हैं सपने सजाए ।
इंतजार कर रहे हैं कि ना जाने किस तरह सपने हकीकत बन कर सामने आए।
 इंतजार कर रहे हैं ना जाने कब वक़्त सोए अरमान जगाए।
 इंतजार कर रहे हैं कब हम मिलन के गीत गाए ।
इंतजार कर रहे हैं कब बहारों की कलियां मुस्कुराएं ,गुनगुनाए।
 इंतजार कर रहे हैं कब बहार नया कोई गुल खिलाए ।
इंतजार कर रहे हैं कब भंवरे कलियों पर मंडरायें।
 इंतजार कर रहे हैं कब उनसे मिले और हाल-ए-दिल सुनाएं।
30 June 1989. 47
Intezar kar rahe hai tumhara Raha Mein Aankhen bachaye.
 Intezar kar rahe hain na jane kab Hame takdir aapas mein milae.
 Intezar kar rahe hain ki kab Honge poore Jo Humne Hain Sapne Sajae .
 Intezaar kar rahe hain Ki Na Jane Kis Tarah Sapne Haqeeqat ban kar Samne Aaye.
 Intezar kar rahi hain na jane kab wakt K
Soe Armaan jaagae .
Intezar kar rahi hain kab hum Milan Ke Geet haaen.
Intzaar kr rhe hAin kab Baharon Ki Kaliyan Muskuraye, gungunae.
Intzaar kr Rahe Hain kab bhaar nya koi Gul Khilae.
Intezar Kar Raha Hai kb banate kaliyon per mandraayen.
ntezaar kar rahe hai kab Unse milehai or Haal e dil sunae
Post a Comment