Google+ Followers

Tuesday, 10 January 2017

48 शादी का तोहफा (Shaadi Ka Tohfa)Gift on Your marriage

तेरी शादी पर क्यों आंसू बहाऊँ में ।
खुशी का मौका है, क्यों अपने साथ सबको रुलाऊँ में ।
कितनी खुशी मिली है तेरे सपने साकार होने जा रहे हैं ।
इस गम को कौन पूछता है, जो तार तार होने जा रहे हैं।
कल तेरी नई दुनिया बसेगी फूलों के आंगन में ।
इधर हम चांद देख रहे होंगे तारों भरे आंचल में ।
आज दुल्हन देखकर तुझे ,सारे अरमानों को दफन कर रहा हूं ।
जो तमन्ना तुझे इस रुप में देखने की थी ,पूरी कर रहा हूं।
हर दुआ आज तक तेरे लिए जो की है फिर एक दुआ कर रहा हूं ।
रहे महलों की रानी बनकर, हरसुख की तेरे लिए कामना कर रहा हूं।

30 June 1989. 48
Shaadi Ka Tohfa
 Teri shaadi pe Kyun Aansu bhaaun Mein.
 Khushi Ka moka Hai ,Kyun Apne Sath Sab Ko rulaun Mai .
Kitni Khushi Mili Hai ,Tere Sapne Sakar Ho Ni Ja Rahe Hain .
Is gum Ko Kaun puchta Hai ,Jo tar tar on a ja rahe hain .
Kal Teri Nayi Duniya Base gi Phoolon Ke Aangan Mein.
 idhar Hum Chand Dekh Rahe Honge Taaron Bhare Aanchal Mein .
Aaj Dulhan Dekh Kar Tujhe, Sare Armano ko dafan kar raha hoon.
Jo tamanna  Tujhe is roop main dekhne ki thi puri kar raha hoon .
Har Dua Aaj Tak Tere Liye Jo Ki Hai ,Phir ek Dua Kar Raha Hoon .
Rahe Mehlon Ki Rani Bankar har sukh ki tere liye kaamNa kar raha hoon.