Google+ Followers

Thursday, 5 January 2017

49 एहसास (Ehsaas )

अब होने लगा है एहसास दीवानों के जज़्बात का ।
जब खुद अपने सामने आए हैं ऐसे हालात ।
अब जाना है दिल क्यों जोर से धड़कने लगता है।
 जब होती है जोरों से बरसात।
 अब जाना की नींद क्यों जाती है दीवानों की।
 दिन के बाद जब होने लगती है रात ।
अब जाना की लंबी क्यों होती है तारों भरी रात।
 क्यों गिन गिन के खत्म होते नहीं ,
फिर भी बाकी गिनने रह जाते हैं कई हजार ।
अब जाना गुमसुम क्यों रहते हैं दीवाने ।
पहले लगती थी अनोखी यह बात।
4July 1989. 49
Ehsaas
Ab honey Laga Hai ehisas Deewana ke Jazbaat Ka.
 Jab Khud apne Samne Aaye Hain  Aise haalaat .
Ab Jaana Hai Dil Kyun jor se Dhadakne Lagta Hai .
Jab Hoti Hai zoron se Barsaat .
Ab jana Ki Neend Kyun jaati Hai Deewano ki .
din ke baad jab hone Lagti Hai Raat .
Ab Jana ki lambi kyu Hoti Hai Taaron Bhari Raat .
Kyun Gin Gin Ke Kitne Hote nahi ,
Phir Bhi Baki ginne Reh Jaate Hain kai hzaar.
Ab jana gumsum kyon Rehte Hain Deewane.
Pehle lagti thi anokhi yeh baat..