Google+ Followers

Tuesday, 3 January 2017

87 दिल की आवाज(Dil ki awaz )

यह आंसू नहीं खून के कतरे हैं ,
जो आंखों से नहीं दिल से उतरे हैं ।
यह मैं नहीं मेरा दिल रोता है ,
ऐसा ही होता है,
जब कोई जान से प्यारी चीज खोता है।
तुम्हें अब मैं क्या कहूं ,
कहने से होगा भी क्या ।
अब तो कुछ नहीं हो सकता ,
हो गया वह जो होना था।
इस दिल के टुकडे हुए हजार,
चाहिए जो हो कोई तुमको ,
तो आ जाना मेरे पास ।
देख जाना अपनी बेवफाई का नतीजा ,
आजकल जमाने में वालों ने शायद यही कुछ सीखा ।
कहां गई वो राधा कहां गई वह सीता ।
जिसे पूजता था मैं ,
लगा कर अपने लहू का टीका।
नजर आती है हर वह देवी ,
मुझे आज पतिता।
4Sept 1989 87
Dil ki awaz
Ye aansun nahi kHoon ke qatre hai ,
jo Aankhon Se Nahi Dil Se Utare Hai .
Ye Main nahe Mera Dil Rota Hai,
 Aisa Hi Hota Hai ,
Jab Koi Jaan Se Pyari cheez khota hai .
tumhe Ab Main Kya Kahoon ,
Kehne Se Hoga Bhi Kya .
Ab To kuch nahi ho sakta .
Ho Gaya Woh Jo Hona Tha .
Is Dil Ke Tukde Hue hazar ,
chahiye Jo Ho Koi Tumko ,
toh Aa Jana mere paas .
dekh Jana Apne Bewafaai Ka ntijha .
 Aaj Kal Zamaane Mein Husn Walo Ne Shayad Yahi Hai seekha .
kahan gayi Woh Radha ,kahan gayi Woh Sita.
 ji se pujhta Tha Main lga kr apne lahu ka teeka.
Nzr aati hai har vo devi mujhe aaj patita