Google+ Followers

Saturday, 7 January 2017

248 सुबह और शाम (Subha or Shaam)

हर सुबह की एक शाम होती है।
हर शाम की एक सुबह ।
फिर क्यूं तू जिंदगी में,
यूं बैठा है, बुझा बुझा ।
बढ़ा ले कदम अपने,
अपनी मंजिल की तरफ।
मिल जाएगा एक दिन ,
खोया हुआ हक ,तुझे तेरा ।
आसान नहीं है जिंदगी जीना फिर भी ,
तू कर मुकाबला कभी तो वह देगा
 तेरी बुझती जिंदगी का दिया जला।
19Nov 1990 248
Har Subah Ki Ek Shaam Hoti Hai .
Har Sham ki Subah.
 Phir Kyun Tu Zindagi Mein ,
Yun baitha hai buooja bujhaa.
 Bada Le Kadam Apne,
apni Manzil ki taraf .
Mil Jayega Ek Din khoya Hua hq tujhe Tera .
Aasan nahi hai zindagi jee na .
Phir Bhi Tu kar Muqabla .
Kabhi Toh vo Dega Teri buchti Zindagi Ka Diya Jala.
Post a Comment